Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

“सपनों के खंडहर में “

सपनों के खंडहर में ,
एक लता बेल की,
आज लहरा रही है ,
अंतहीन उमंग में देखो|
साँझ की फैली है उदासी,
मगर,विहगों के कलरव हैं पुकारते ,
नीड़ की खोज में उडान हैं भरते,
भूलकर अपनी सब थकान को|
इन बेलों की भी है चाहत,
उड़ सकूँ कभी मैं खग बन,
नील गगन में कलरव भर,
गोधूली में खो जाऊँ |
अपने भी पर हों सुंदर ,
नहीं रहूँ मैं भी निर्भर ,
मेरी लता हो उन्मुक्त,
दूर देश की सैर करूँ |
नवल निशा का रस पी ,
मैं भी झूमूँ आनन्दित हो ,
भूल जाऊँ सच सारे ,
सपनों के खंडहर में |
…निधि…

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 520 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
संवेदना -जीवन का क्रम
संवेदना -जीवन का क्रम
Rekha Drolia
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
माँ बाप खजाना जीवन का
माँ बाप खजाना जीवन का
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
पूर्वार्थ
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
किसी की याद मे आँखे नम होना,
किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ना आप.. ना मैं...
ना आप.. ना मैं...
'अशांत' शेखर
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
कॉटेज हाउस
कॉटेज हाउस
Otteri Selvakumar
2563.पूर्णिका
2563.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
विमला महरिया मौज
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
संगत
संगत
Sandeep Pande
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
*प्रणय प्रभात*
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
gurudeenverma198
Loading...