Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

“सपने”

“सपने”
पलकों में कैद कुछ सपने हैं,
कुछ बेगाने कुछ अपने हैं।
कोई धड़कन में बस कर,
हमारी जान से लगते अपने हैं।

1 Like · 1 Comment · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
■ ग़ज़ल (वीक एंड स्पेशल) -
■ ग़ज़ल (वीक एंड स्पेशल) -
*Author प्रणय प्रभात*
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
*चेतना-परक कुछ दोहे*
*चेतना-परक कुछ दोहे*
Ravi Prakash
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
Sonam Puneet Dubey
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
" महखना "
Pushpraj Anant
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
एक पुष्प
एक पुष्प
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"रिश्तों का विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
Loading...