Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

“सत्य” युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते

“सत्य” युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते है। हर युग में सत्य अपना स्वरूप बदलता है जैसे, सतयुग-समर्पितसत्य, त्रेता- मर्यादित सत्य, द्वापर-परिभासित्सत्य और कलियुग में प्रायोजित सत्य। क्यों
जय श्री सीता राम

2 Likes · 298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
$ग़ज़ल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
हाइकु-गर्मी
हाइकु-गर्मी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
"कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
3103.*पूर्णिका*
3103.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
अपने-अपने संस्कार
अपने-अपने संस्कार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हमारा साथ और यह प्यार
हमारा साथ और यह प्यार
gurudeenverma198
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ कैसे भी पढ़ लो...
■ कैसे भी पढ़ लो...
*प्रणय प्रभात*
तुम क्या हो .....
तुम क्या हो ....." एक राजा "
Rohit yadav
मुश्किल हालात हैं
मुश्किल हालात हैं
शेखर सिंह
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
अंसार एटवी
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कहां गए (कविता)
कहां गए (कविता)
Akshay patel
प्रेम की गहराई
प्रेम की गहराई
Dr Mukesh 'Aseemit'
Loading...