Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

सत्य की खोज

प्रत्यक्ष है पर दिखता नहीं
चीखता है पर सुनता नहीं
भान है पर मान नहीं
निशब्द मौन हर कहीं

क्यूँ है सत्य मूक
क्यों नहीं कहता दो टूक
क्या सुनती नहीं नीरवता
क्या दिखती नहीं बर्बरता
पुण्य का चोला पहन पाप
हृदय की पीड़ा और संताप
झंझा में उलझता जीवन
मनुष्य के दुष्कर्म ओर पतन
हर ओर शोषण व उत्पीड़न
नित अस्मिता पर आक्रमण
बेबसी की दुहाई
बस चुप्पी सी छायी

कैसा ये अंधकार कैसी धुन
सब देख समझ सुन
सत्य बैठा है
गूँगा बहरा अंधा बन

रेखा ड्रोलिया
कोलकाता
स्वरचित

4 Likes · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा अपना........ जीवन
हमारा अपना........ जीवन
Neeraj Agarwal
वादी ए भोपाल हूं
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
"अहम का वहम"
Dr. Kishan tandon kranti
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
हमदम का साथ💕🤝
हमदम का साथ💕🤝
डॉ० रोहित कौशिक
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
उपहास ~लघु कथा
उपहास ~लघु कथा
Niharika Verma
*मतदाता को चाहिए, दे सशक्त सरकार (कुंडलिया)*
*मतदाता को चाहिए, दे सशक्त सरकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
#इस_साल
#इस_साल
*प्रणय प्रभात*
जिस आँगन में बिटिया चहके।
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
"पँछियोँ मेँ भी, अमिट है प्यार..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
2859.*पूर्णिका*
2859.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ढूंढें .....!
ढूंढें .....!
Sangeeta Beniwal
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
पूर्वार्थ
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
Loading...