Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

सत्य की ख़ोज़ पर दोहे

सत्य तथ्य संसार का, एक यही है घोर।
जन्म-मृत्यु निश्चित यहाँ, निश्चित इनका ठोर।।//1

समय स्थान कारण लिए, रचा मृत्यु का खेल।
हँसकर जीना सीखिये, रखकर सबसे मेल।।//2

ख़ोज स्वयं की कीजिए, जीवन हो ख़ुशहाल।
भ्रम का जीवन मूर्खता, समझ इसे तत्काल।।//3

इच्छाओं की क़ैद में, जीना है बेकार।
मिला ख़ुशी से चूमिए, तभी खिलें दिन चार।।//4

ख़ोज़ सत्य की है यही, रूह कहा तू मान।
मन को पीछे रख सदा, पूर्ण यही है ज्ञान।।5

ज्ञान नहीं जब भ्रम हृदय, समझ तनिक इंसान।
समझे बिन सब गौंण हैं, दौलत पद सम्मान।।//6

मनुज-मनुज से प्रेम का, सीखे जब व्यवहार।
उजड़े गुलशन में तभी, आए रंग बहार।।//7

आर.एस. ‘प्रीतम’

6 Likes · 2 Comments · 491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
Anil "Aadarsh"
फितरती फलसफा
फितरती फलसफा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
क्या प्यार है तुमको हमसे
क्या प्यार है तुमको हमसे
gurudeenverma198
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"दरपन"
Dr. Kishan tandon kranti
मरीचिका
मरीचिका
लक्ष्मी सिंह
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
*Author प्रणय प्रभात*
2708.*पूर्णिका*
2708.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
वक्त से वकालत तक
वक्त से वकालत तक
Vishal babu (vishu)
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
Ravi Prakash
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुझमें भी कुछ अच्छा है
मुझमें भी कुछ अच्छा है
Shweta Soni
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ Rãthí
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
SPK Sachin Lodhi
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
shabina. Naaz
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
Praveen Sain
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...