Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

सत्यं शिवम सुंदरम!!

सत्य को जानना चाहते हो ,
सत्य को पहचानना चाहते हो ,
तो सत्य को स्वीकार करना होगा ।
सत्य कठोर होता है ,
सत्य निष्ठुर होता है ,
परंतु ग्रहण करना होगा ।
सत्य सुंदर होता है ,
सत्य शिवम भी होता है ,
उसे पूजना भी होगा ।
और आदर भी करना होगा ।
क्या तुममें है इतना साहस ?
क्या तुममें है इतना सामर्थ्य ?
क्या तुममें है इतनी सहनशीलता ?
की सत्य को जीवन में आत्मसात कर सको,
तो तुम सत्य की ओर अग्रसर हो सकते हो ।

3 Likes · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
Mahender Singh
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
"पालतू"
Dr. Kishan tandon kranti
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
*लगता है अक्सर फँसे ,दुनिया में बेकार (कुंडलिया)*
*लगता है अक्सर फँसे ,दुनिया में बेकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
3443🌷 *पूर्णिका* 🌷
3443🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
*मित्र*
*मित्र*
Dr. Priya Gupta
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
पूर्वार्थ
"'मोम" वालों के
*Author प्रणय प्रभात*
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
"हर दिन कुछ नया सीखें ,
Mukul Koushik
Loading...