Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

सज़ल

शीत में वातावरण यूँ गल रहा है।
लुकाछिपी करके सूरज छल रहा है।

हो गयी है रात लम्बी इस तरह कि ।
शाम में ढ़लने को दिन मचल रहा है।

प्रकृति भी कुहरे की चादर ओढ़कर ।
गलन में उसे कँपकँपाना खल रहा है।

श्वेत पालों ने बिगाड़ा रूप पल्लव ।
रंग फूलों का भी जैसे बदल रहा है।

अव्यवस्थित सबका जीवन हो गया है।
बर्फ में मन जैसे सबका जल रहा है।

“महज़ ” मुखड़ा दीखता है मनुज का I
कपड़े इतने पहनकर वो चल रहा है।

Language: Hindi
1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
है पत्रकारिता दिवस,
है पत्रकारिता दिवस,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
रात बदरिया...
रात बदरिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
Tarun Singh Pawar
💐प्रेम कौतुक-263💐
💐प्रेम कौतुक-263💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बादल
बादल
Shutisha Rajput
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"जुगाड़ तकनीकी"
Dr. Kishan tandon kranti
मईया रानी
मईया रानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*खुशबू*
*खुशबू*
Shashi kala vyas
पुस्तक परिचय /समीक्षा
पुस्तक परिचय /समीक्षा
Ravi Prakash
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
आपके स्वभाव की
आपके स्वभाव की
Dr fauzia Naseem shad
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
Loading...