Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

सजनी

डुबते सुरज की इस घड़ी में.
गोरी ! किस व्यथा के संग.
फिर आयेंगे बालम तेरे.
फिर जागेगी दिल में मृदुल उमंग.

शहरी भिड़ की आपा – धापी.
दिल नाहीं लगे सजनी तोहरे बिन.
अखियन की झुरमुट कुहलाई.
फिर जागेगी दिल में मृदुल उमंग.

प्रेम अतित की रंगभुमि में.
फिरती बिरहन में स्वप्न उमंग.
कब आओगे बित रही ये फागुन.
फिर जागेगी दिल में मृदुल उमंग.

सोहत ना ये रंग अबिरी.
पिचकारी संग बैर भई.
मंद भये मन को मयूर.
फिर जागेगी दिल में मृदुल उमंग.

लिख रहे हैं, बालम हमरे.
प्रित शहर भई सौत होली के बिच.
आयेंगे बालम हमरे किस होली.
फिर जागेगी दिल में मृदुल उमंग.

अवधेश कुमार राय “अवध”

Language: Hindi
497 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बिगड़े रईस
बिगड़े रईस
Satish Srijan
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
■ आज का खुलासा...!!
■ आज का खुलासा...!!
*Author प्रणय प्रभात*
Tum bina bole hi sab kah gye ,
Tum bina bole hi sab kah gye ,
Sakshi Tripathi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Humiliation
Humiliation
AJAY AMITABH SUMAN
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
कया बताएं 'गालिब'
कया बताएं 'गालिब'
Mr.Aksharjeet
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
कविका मान
कविका मान
Dr. Sunita Singh
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
लिप्सा
लिप्सा
Shyam Sundar Subramanian
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
ruby kumari
Loading...