Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

सजदे में सर झुका तो

सजदे में सर झुका तो
अर्श की बुलंदी पर पहुंच गया
इंसान तुझे कितना खुदा
ने अजीम कर दिया…….shabinaZ

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
Writing Challenge- घर (Home)
Writing Challenge- घर (Home)
Sahityapedia
पड़े विनय को सीखना,
पड़े विनय को सीखना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
मेरे कलाधर
मेरे कलाधर
Dr.Pratibha Prakash
बेगुनाही की सज़ा
बेगुनाही की सज़ा
Shekhar Chandra Mitra
सुहागरात की परीक्षा
सुहागरात की परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
कम्प्यूटर ज्ञान :- नयी तकनीक- पावर बी आई
कम्प्यूटर ज्ञान :- नयी तकनीक- पावर बी आई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पेड़ो की दुर्गति
पेड़ो की दुर्गति
मानक लाल मनु
शुभारम्भ है
शुभारम्भ है
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वर्तमान भी छूट रहा
वर्तमान भी छूट रहा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
है मुहब्बत का उनकी असर आज भी
है मुहब्बत का उनकी असर आज भी
Dr Archana Gupta
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
आप मे आपका नहीं कुछ भी
आप मे आपका नहीं कुछ भी
Dr fauzia Naseem shad
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
हम
हम "फलाने" को
*Author प्रणय प्रभात*
डूब कर इश्क में जीना सिखा दिया तुमने।
डूब कर इश्क में जीना सिखा दिया तुमने।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रिश्तों में परीवार
रिश्तों में परीवार
Anil chobisa
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
Loading...