Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

सच होता है कड़वा

सच होता है कड़वा, हकीकत में।
सच की मिलती सजा है, हकीकत में।।
सच होता है कड़वा———————।।

बेच क्यों देते हैं लोग, सच को ऐसे।
करने को मौज आराम, लेकर पैसे।।
शर्म आती नहीं क्यों, करते ऐसा।
सच से डरते हैं लोग,हकीकत में।।
सच होता है कड़वा—————-।।

नहीं है जिन्दा ईमान, लोगों में अब यहाँ।
झूठ- फरेबी का धंधा, बढ़ रहा है यहाँ।।
राजनीति का हथियार भी, झूठ है।
सच के दुश्मन बहुत है, हकीकत में।।
सच होता है कड़वा——————-।।

मुसीबत में वतन है, बदली है फिजा।
नहीं चैनो- अमन है, फैली है खिजा।।
नहीं करो ऐसे बर्बाद, वतन झूठ पर।
सत्यम शिवम सुंदरम, हकीकत में।।
सच होता है कड़वा——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*ढोलक (बाल कविता)*
*ढोलक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
संकट मोचन हनुमान जी
संकट मोचन हनुमान जी
Neeraj Agarwal
संगीत
संगीत
Vedha Singh
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
3181.*पूर्णिका*
3181.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
Neelofar Khan
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
आप जरा सा समझिए साहब
आप जरा सा समझिए साहब
शेखर सिंह
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
क्यों प्यार है तुमसे इतना
क्यों प्यार है तुमसे इतना
gurudeenverma198
Loading...