Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

सच ही सच

शीर्षक – सच ही सच
************
सच ही सच यही जीवन होता हैं। जीवन और जिंदगी का सच ही सच होता है। सच हमारे दर्द का आईना होता हैं। खबावो का जहां सच कहां होता हैं। आज आधुनिक हम सच बदलते रहते हैं। हम मानव की सोच स्वार्थ के साथ सच कहती हैं। आज आंखों की नमी सच कौन देखता हैं। एहसास वो अजनबी राह पर चलाता रहता हैं।
सच तो जीवन बस एक राह होती हैं
हां चलते चलते कब सच की शाम होती हैं
सच हम समझे तब तक राह खत्म होती हैं
बस यही जिंदगी कुदरत के साथ सच ही सच होता हैं।
******************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ सच्ची संवेदना...
माँ सच्ची संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सच
सच
Neeraj Agarwal
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
*दिल कहता है*
*दिल कहता है*
Kavita Chouhan
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
Neelam Sharma
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
*यादें कब दिल से गईं, जग से जाते लोग (कुंडलिया)*
*यादें कब दिल से गईं, जग से जाते लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
......... ढेरा.......
......... ढेरा.......
Naushaba Suriya
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
राज वीर शर्मा
2954.*पूर्णिका*
2954.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
प्रभु श्रीराम
प्रभु श्रीराम
Dr. Upasana Pandey
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...