Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

सच और हकीकत

किसी और का नहीं
अपना किरदार निभाता हूं
जो दिल में आए मेरे
बस वही बात बताता हूं
जो समझना चाहते हो
तुम वो समझ लेना
मैं इधर उधर की नहीं
बात दिल की बताता हूं

तभी तो कइयों को
मेरा किरदार अखरता है
दिखाकर दागदार चेहरा मेरा
देखो वो खुद को संवारता है
जोड़ना चाहो जोड़ लो
किसी से भी नाम मेरा
भट्टी में तपाओगे जितना
सोना तो उतना निखरता है

छोटी करके दूसरों की
लकीर कुछ नहीं होता
यहां अपनी लकीर को
लंबा करना पड़ता है
मत खींच दूसरों को पीछे,
बढ़ तू भी आगे
तू आज भी क्यों
छोटी छोटी बातों पर लड़ता है

कैसे पाएगा तू
सम्मान युवा पीढ़ी का
जब तू खुद बड़ों का
सम्मान नहीं करता
पाया है उसने ये मुकाम
जीवन भर की मेहनत से
तू क्यों ये बात अब भी
स्वीकार नहीं करता।

Language: Hindi
8 Likes · 3 Comments · 1066 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
लम्बी हो या छोटी,
लम्बी हो या छोटी,
*प्रणय प्रभात*
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
खुशी(👇)
खुशी(👇)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं तो महज आवाज हूँ
मैं तो महज आवाज हूँ
VINOD CHAUHAN
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
Ranjeet kumar patre
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
"सोचो ऐ इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...