Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

सखि आया वसंत

सखि वन में खिले अमलतास
खुशबू उनमें है खास
रंग उसका सुनहरा
पेड़ है हरा भरा
नाच उठा मन भ्रमरा
टूट गया भ्रम हमरा

सखी उपवन में गुलमोहर की बहार
भंवरे गुंजन करें बार-बार
फूलों से लें उनका सार
हर्षित है सारा संसार
पंछियों की कलरव की झंकार
आती मधुर पपीहा की पुकार

सखी आम्र शाखों पर कोयल की कूक प्यारी
सभी पंछियों से लगती न्यारी
चकवा को चकवी प्यारी
चंद्रमा को निहारे रात सारी
ओम् न आए अबकी बारी
विरहिन तरसे प्रेम की मारी

ओमप्रकाश भारती ओम्
बालाघाट मध्यप्रदेश

Language: Hindi
38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr .Shweta sood 'Madhu'
तुम्हारा हर लहज़ा, हर अंदाज़,
तुम्हारा हर लहज़ा, हर अंदाज़,
ओसमणी साहू 'ओश'
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*प्रणय प्रभात*
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
तुमने दिल का कहां
तुमने दिल का कहां
Dr fauzia Naseem shad
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
गीत।।। ओवर थिंकिंग
गीत।।। ओवर थिंकिंग
Shiva Awasthi
Loading...