Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 2 min read

*संस्मरण*

संस्मरण
🍂🍂🍃🍃🍃
साठ-सत्तर के दशक में रामपुर में सिनेमाघर
🍂🍂🍃🍃🍃
साठ-सत्तर के दशक में रामपुर शहर में तीन सिनेमाघर हुआ करते थे। नाहिद, माला और कारोनेशन।

हमारे घर बाजार सर्राफा से कारोनेशन टॉकीज सबसे पास था। बाजार सर्राफा से तोपखाना गेट तक का पैदल का रास्ता था। नाहिद और माला गॉंधी समाधि के पास थे। मिस्टन गंज से गांधी समाधि की तरफ जाने पर नाहिद सिनेमा थोड़ा पहले पड़ जाता था। नाहिद से बॉंई ओर मुड़ने पर माला टॉकीज पड़ता था।

तीनों सिनेमाघरों में बालकनी थी। बालकनी में जाने के लिए अलग जीना होता था। जीना चढ़कर दर्शक जाते थे। बालकनी में कम ही सीटें होती थीं। बालकनी का टिकट महंगा पड़ता था। लेकिन फायदा यह था कि सबसे पीछे बैठकर सिनेमा देखने का आनंद लिया जा सकता था। इससे आंखों पर भी जोर कम पड़ता था। बालकनी का टिकट महंगा होने के कारण समृद्ध परिवारों के लोग ही इसमें बैठे हुए नजर आते थे। ज्यादातर जान-पहचान के लोग मिल जाते थे।

सिनेमाघरों में जनरेटर की सुविधा नहीं थी। एक बार जब हम कोरोनेशन टॉकीज में पिक्चर देखने गए तो शो के बीच में लाइट चली गई। लाइट जाते ही फिल्म का प्रदर्शन रुक गया। गर्मी के दिन थे। बालकनी में और भी ज्यादा गर्मी होने लगी। सब लोग बालकनी से निकलकर जीने के रास्ते सिनेमा परिसर में टहलने लगे। थोड़ी देर बाद लाइट आई। सारे दर्शक झटपट अपनी-अपनी सीटों पर जाकर बैठ गए। फिल्म पहले की तरह आनंदपूर्वक चलने लगी। मगर बिजली की आंखमिचौली उन दिनों आम थी। कुछ देर बाद पुनः बिजली चली गई। फिर वही हंगामा। लोग पिक्चर हॉल की अपनी-अपनी सीटों से उठकर बाहर आए। कुछ देर टहले।
अक्सर ऐसा होता था कि लाइट जल्दी आ जाती थी। कई बार लाइट का इंतजार जरूरत से ज्यादा समय तक करना पड़ता था। कुछ लोग पिक्चर बीच में अधूरी छोड़कर इसलिए चले जाते थे कि लाइट का कब तक इंतजार किया जाए ? कुछ लोग बैठे रहते थे। पिक्चर हॉल की अपनी मजबूरियां होती थीं ।

कई बार फिल्म की रील घिसी-पिटी आ जाती थी। उसमें फिल्म के दृश्य बहुत धुंधले चलते थे। बालकनी में बैठे हुए लोग तो फिर भी चुप रहते थे, लेकिन ग्राउंड फ्लोर पर शोर कुछ ज्यादा ही मचता था। सिनेमाघर के संचालक ऐसी स्थिति में कुछ भी कर सकने की स्थिति में नहीं होते थे।

फिर भी कुल मिलाकर यह तीनों सिनेमाघर जनता के मनोरंजन के अच्छे साधन थे। इनमें नई-नई फिल्में भी आती थीं । अनेक बार पुरानी फिल्मों का प्रदर्शन भी दोहराया जाता था।
————————————-
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
पूर्वार्थ
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
2281.पूर्णिका
2281.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
नेताम आर सी
सत्य तत्व है जीवन का खोज
सत्य तत्व है जीवन का खोज
Buddha Prakash
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
Rituraj shivem verma
दाना
दाना
Satish Srijan
*मौका मिले मित्र जिस क्षण भी, निज अभिनंदन करवा लो (हास्य मुक
*मौका मिले मित्र जिस क्षण भी, निज अभिनंदन करवा लो (हास्य मुक
Ravi Prakash
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
खड़कते पात की आवाज़ को झंकार कहती है।
खड़कते पात की आवाज़ को झंकार कहती है।
*Author प्रणय प्रभात*
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
महान क्रांतिवीरों को नमन
महान क्रांतिवीरों को नमन
जगदीश शर्मा सहज
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
प्यारी सी चिड़िया
प्यारी सी चिड़िया
Dr. Mulla Adam Ali
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
सुप्रभात प्रिय..👏👏
सुप्रभात प्रिय..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...