Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 3 min read

#संस्मरण

#संस्मरण
■ अदबी सफ़र के 36 साल
★ आज मेरी शायरी की 36वीं सालगिरह
(अदब के सफ़र में आपके साथ और सहयोग को सलाम)
【प्रणय प्रभात】
आज 07 मई 2023 का दिन मेरे लिए बेहद ख़ास है। जी हाँ, आज मेरी शायरी की 36वीं सालगिरह है। वर्ष 1987 में आज ही के दिन इस दिल की ज़मीन पर उर्दू अदब का पहला बीज अंकुरित हुआ था। आज ही के दिन श्योपुर मेले के रंगमंच पर पहली बार अखिल भारतीय मुशायरा पहली बार सुना था। इस दिन तक उर्दू को लेकर न कोई रुचि थी न समझ। बस एक रात काटने की मंशा से जा बैठे थे मुशायरे में। वो भी इसलिए कि मोहल्ले में बिजली नहीं थी उस रात।
शुरुआत में न कुछ पल्ले पड़ना था न पड़ा। इसके बाद जैसे ही नाज़िमें-मुशायरा डॉ बशीर बद्र साहब अपने रंग में आए, उर्दू
ज़ुबान अपनी सी लगने लगी। लगा कि इससे जो डर था उसकी कोई वजह ही नहीं थी। ख़ानदान में बाबा, पापा दोनों उर्दू के अच्छे जानकार थे। इस नाते भी उर्दू ख़ून में थी। बस उससे रूबरू होने का मौका इससे पहले नहीं मिला था मुझे। अलसुबह तक चले मुशायरे में पद्मश्री डॉ बशीर बद्र के अलावा अदब की दुनिया के नामी शायर डॉ राहत इंदौरी, डॉ सागर आज़मी, अख़्तर ग्वालियरी, इम्तियाज़ जयपुरो, राही शहाबी, एजाज़ पापुलर मेरठी, मोहतरमा तस्नीम सिद्दीक़ी और शांति सबा मंच पर थीं।
आधे से ज़्यादा क़लाम आसानी से समझ आया। बाक़ी साथ ले गए अज़ीज़ दोस्त और वरिष्ठ शायर शाकिर अली “शाकिर” की मदद से समझा। उर्दू का जादू अब हिंदी रचनाकार के सर पर चढ़ कर बोल रहा था। मौसी भी माँ सी ख़ूबसूरत और मीठी हो सकती है, उस एक रात के चंद घण्टों में जाना। प्रोग्राम ख़त्म होने के बाद डायरी ले कर मंच पर चढ़ा। डॉ बद्र से ऑटोग्राफ़ मांगा। वो बड़े ख़ुलूस से मिले। मुस्कुराए और खुले हुए पन्ने पर अपने दस्तख़त के साथ लिखा यह शेर-
“कुछ तो मजबूरियां रही होंगी।
यूं कोई बेवफ़ा नहीं होता।।”
अगले ही दिन जनाब शाकिर साहब से ग़ज़ल, नज़्म, क़तात, शेर के बारे में समझने का प्रयास किया। एक ग़ज़ल की बंदिश, रदीफ़, क़ाफ़िए के बारे में जाना। शाम होने तक बहुत कुछ लिख भी दिया। बतौर उस्ताद शाकिर साहब ने इस्लाह की। अदब के सफ़र का आगाज़ हो चुका था। जो आज तक बदस्तूर जारी है। जीवन के इस दो तिहाई हिस्से ने तमाम तजुर्बे दिए। नतीज़तन आज उर्दू अदब की ज़्यादातर विधाओं से मेरा सीधा वास्ता है। लग्भग हर सिंफ़ में लिखा है। लिख रहा हूँ आज तक। क़लाम कभी सैकड़ों में था, अब हज़ारों में है। दुआएं हैं आप की, इनायतें और नवाज़िशें भी। आगे भी हमवार बने रहेंगे तो सफ़र दिलचस्प बना रहेगा।
तीन दशक से अधिक की इस आदबी यात्रा में दौलत, शौहरत जैसी आरज़ी मंज़िल बेशक़ दूर रही हो, मगर दिली सुक़ून की भरपूर दौलत से मालामाल रहा हूँ मैं।
आप जैसे अच्छे दोस्त हमक़दम रहे हैं हमेशा से।
शुक्रगुज़ार हूँ आपकी बेपनाह दुआओं, इनायतों, नावाज़िशों और मुहब्बतों के लिए। बाक़ी के दोस्तों से गुज़ारिश है कि उर्दू से परहेज़ नहीं प्यार करें। थोड़ी सी कोशिश करेंगे तो पाएंगे कि ये आपकी अपनी ज़ुबान है। जो आपकी तहज़ीब को कुछ और निखार देती है। शुक्रिया इस शीरीं जुबान का।
चलते-चलते बताता चलूं कि तमाम मंचीय कार्यक्रमों से जुड़ाव के बावजूद शायरी मेरी रोज़ी-रोटी नहीं रही। मैने गीतों को बेटों की तरह पाला तो ग़ज़लों और नज़्मों को बेटियों की तरह। यह मेरे लिए जरिया बनी दिल-दिमाग़ से बोझ उतारने का। मन को हल्का करने का भी। ठहराव और रफ़्तार से लेकर उबाल तक से लबरेज़ है मेरी शायरी। तभी शायद कभी कहना पड़ा मुझे-
“मुझे सोते हुए जगते हुए ये ख़्वाब आता है,
कभी पानी की जगहा आंख में तेज़ाब आता है।
मैं बेहतर जानता हूँ इसलिए अक़्सर उफनता हूँ,
समंदर मौन रहता है तो फिर सैलाब आता है।।”
■प्रणय प्रभात■
श्योपुर (मध्यप्रदेश)
😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊

1 Like · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन की आँखें खोल
मन की आँखें खोल
Kaushal Kumar Pandey आस
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
पिया घर बरखा
पिया घर बरखा
Kanchan Khanna
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
डॉक्टर रागिनी
एक बार हीं
एक बार हीं
Shweta Soni
प्यार
प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हरा नहीं रहता
हरा नहीं रहता
Dr fauzia Naseem shad
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
Ravi Prakash
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
अंसार एटवी
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
#समय_की_मांग
#समय_की_मांग
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...