Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

संस्कृति और संस्कार

“संस्कृति और संस्कार”

यो किसा जमाना आ गया लोगो,
संस्कृति और संस्कार रहे ना ।
आज पहले जैसे प्यार रहे ना,
और कृष्ण जैसे यार रहे ना ।।

आज मात पिता की इज्जत कोन्या,
गुरुओ के सम्मान रहे ना ।
घर घर फ़िल्मी पढ़े पत्रिका,
गीता और कुरान रहे ना ।।

मात पिता ने तीर्थ करादे,
वे बेटे सरवण कुमार रहे ना
यो किसा जमाना आ गया लोगो,
संस्कृति और ..,…………………

आज सुभाष चन्दर से देश भक्त ना ।
महाराणा से वीर रहे ना ।
आज करण जैसे दानवीर ना,
और साई जैसे पीर रहे ना ।।

देश की खातिर फाँसी चढ़ जा,
आज भगत सिंह सरदार रहे ना।
यो किसा जमाना आ गया लोगो,
संस्कृति और…………………

आज एकलव्य से शिष्य कोन्या,
द्रोणाचार्य से गुरु रहे ना।
रामचंदर सी मर्यादा कोन्या,
बाल भगत से ध्रुव रहे ना ।।

सब को सदा मिले जहाँ न्याय,
वो विक्रमादित्य से दरबार रहे ना ।
यो किसा जमाना आ गया लोगो,
संस्कृति और ………………..

आज पहले जैसी हवा रही ना ।
ना रहे पहले जैसे पानी ।।
जो अंग्रेजो से लोहा लेले ,
ना रही झाँसी वाली रानी ।।

आज वैलेंटाइन डे को मनावें,
होली, तीज त्यौहार रहे ना ।
यो किसा जमाना आ गया लोगो,
संस्कृति और ………………..

रचनाकार :—-जगदीश गुलिया
मोबाईल न0 9999920918

Language: Hindi
2 Comments · 653 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुहब्बत की लिखावट में लिखा हर गुल का अफ़साना
मुहब्बत की लिखावट में लिखा हर गुल का अफ़साना
आर.एस. 'प्रीतम'
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शिद्दत से की गई मोहब्बत
शिद्दत से की गई मोहब्बत
Harminder Kaur
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
मन
मन
Sûrëkhâ
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
गलत लोग, गलत परिस्थितियां,और गलत अनुभव होना भी ज़रूरी है
गलत लोग, गलत परिस्थितियां,और गलत अनुभव होना भी ज़रूरी है
शेखर सिंह
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
Ranjeet kumar patre
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम
तुम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
3496.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3496.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
■ चिंतन का निष्कर्ष
■ चिंतन का निष्कर्ष
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...