Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

संस्कार

================================
गीतिका
~~~|||~~~
आधार छंद —–सुमेरु (मापनी युक्त)
मापनी ———–1222 1222 122
तुकान्त—–आया ( समान्त–आया ,पदान्त–अपदान्त)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
हमारे देश में सब कुछ —-समाया।
यहाँ के संस्कारों ने ——सिखाया।

वृद्ध हैं जो उन्हें सम्मान —–देकर,
सदा छोटों ने उनसे प्यार —पाया।

बड़े ही पूजनीय अतिथि —–रहे हैं,
देकर सत्कार मन उनका रिझाया।

उपजते हों जहाँ अनुराग —-रिश्ते,
वही प्रेमिल सदन उर में —बसाया।

निराला है सभी राष्ट्रों में’ —-भारत,
सभी धर्मों के’ मिश्रण ने —सजाया।

हमें है गर्व भारत वर्ष ——-तुझ पर,
जगत में स्वाभिमानी नाम —-छाया।
******************************************
नीरज पुरोहित रूद्रप्रयाग(उत्तराखण्ड)

358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
"अनमोल"
Dr. Kishan tandon kranti
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
Keshav kishor Kumar
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
गीत
गीत
गुमनाम 'बाबा'
प्यार है नही
प्यार है नही
SHAMA PARVEEN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
Dr. Man Mohan Krishna
★भारतीय किसान ★
★भारतीय किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
क्षितिज पार है मंजिल
क्षितिज पार है मंजिल
Atul "Krishn"
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रात-दिन जो लगा रहता
रात-दिन जो लगा रहता
Dhirendra Singh
पिता
पिता
Harendra Kumar
Loading...