Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2017 · 1 min read

माँ/संसार

स्वार्थी संसार , सब जन बुद्धि के कोहिनूर है |
आत्मा की किसे चिंता, जग का मन भरपूर हैं |
माँ, सघन जीवन-प्रदाता- प्यार का अनुपम सगुन|
शेष सब ढोते समय के शेर जैसे शूर हैं|

माता तेरा ऋणी यह, सचमुच असत् संसार है|
माँ अमल पोषण की देवी,प्रीतिमय आधार है |
आप बिन सारा ज़माना, पत्ता सूखी डाल का |
मातु नहिं तो बाल-जीवन में नहीं परिवार है |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

उर=हृदय

Language: Hindi
500 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
ईश्वर से बात
ईश्वर से बात
Rakesh Bahanwal
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
💐 Prodigy Love-4💐
💐 Prodigy Love-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2884.*पूर्णिका*
2884.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
gurudeenverma198
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Sakshi Tripathi
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
कवि दीपक बवेजा
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*Author प्रणय प्रभात*
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
वो सबके साथ आ रही थी
वो सबके साथ आ रही थी
Keshav kishor Kumar
दोहे- माँ है सकल जहान
दोहे- माँ है सकल जहान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
******गणेश-चतुर्थी*******
******गणेश-चतुर्थी*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
"कहाँ छुपोगे?"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...