Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

संसार का स्वरूप (2)

संसार वास्तव में दु:खालय ही है। जों कहते है इसमें सुख भी मिलता है तो वास्तव में वो दु:खो का थोड़ी देर का विराम है उसे ही हम सुख मान लेते है। इस दु:ख का भी बड़ा महत्व है दु:ख की वजह से ही हमारी इस खोज की शुरुआत होती है की क्या कोई ऐसा जीवन होता है जिसमे दु:ख का सर्वथा अभाव हो या केवल अनंत आनंद ही हो।ये सभी अनुभव कर चुके है और कर ही रहे है की इस संसार में सुख तो है ही नही और जो है भी तो वो माना हुआ सुख है ।संसार को जिसने जान लिया वो ये जान गया की संसार में सुख है ही नही क्योंकि जों निरंतर परिवर्तनशील है,निरंतर नाश की ओर अग्रसर है भला उसमे सुख कैसे हो सकता है जों नष्ट हो रहा है उससे सुख नहीं दु:ख ही मिलेगा क्योंकि हमारी सदा बने रहने की इच्छा है ।इसलिए तो वैज्ञानिक खोज में लगे है की मानव की उम्र कैसे लंबी हो की वो ज्यादा से ज्यादा जी सके।परंतु अभी तक कोई सफल नहीं हुआ।क्योंकि गीता में भगवान ने कहा है जन्म लेने वाले की मृत्यु निश्चित है।और मृत्यु को प्राप्त होने वाले का जन्म निश्चित है। अच्छा एक बात और की ये सुख दुख कौन अनुभव करता है?……
क्रमश:…..

Language: Hindi
Tag: लेख
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक़्त को वक़्त
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता :गर्दभ जी
बाल कविता :गर्दभ जी
Ravi Prakash
देर हो जाती है अकसर
देर हो जाती है अकसर
Surinder blackpen
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
अप्प दीपो भव
अप्प दीपो भव
Shekhar Chandra Mitra
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
आज का यथार्थ~
आज का यथार्थ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
इंसानियत
इंसानियत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फौजी की पत्नी
फौजी की पत्नी
लक्ष्मी सिंह
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
मौज के दोराहे छोड़ गए,
मौज के दोराहे छोड़ गए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नदी की मुस्कान
नदी की मुस्कान
Satish Srijan
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
Loading...