Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2024 · 1 min read

संवेदना

शीर्षक – संवेदना
**************
संवेदना ही तो हमारी एक सहयोग की राह होती हैं।
अपने और पराए की दृष्टि अपनी कहती हैं।
ह्रदय की व्यवस्था और संवेदना ही तो होती हैं।
तेरे मेरे संग साथ समय की संवेदना होती हैं।
सच और हकीकत में पीड़ा और सच के साथ होती हैं।
एक दूसरे की पूरक तो संवेदना होती हैं।
सच तो हमारी आपकी प्रतिक्रिया एक संवेदना होती हैं।
***************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

2 Likes · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
24/238. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/238. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
संबंध अगर ह्रदय से हो
संबंध अगर ह्रदय से हो
शेखर सिंह
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
Surinder blackpen
वो तीर ए नजर दिल को लगी
वो तीर ए नजर दिल को लगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
*अंजनी के लाल*
*अंजनी के लाल*
Shashi kala vyas
"जिराफ"
Dr. Kishan tandon kranti
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*भीड़ में चलते रहे हम, भीड़ की रफ्तार से (हिंदी गजल)*
*भीड़ में चलते रहे हम, भीड़ की रफ्तार से (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
सीख
सीख
Dr.Pratibha Prakash
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
दिल में मदद
दिल में मदद
Dr fauzia Naseem shad
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
_सुलेखा.
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
Shreedhar
आबाद वतन रखना, महका चमन रखना
आबाद वतन रखना, महका चमन रखना
gurudeenverma198
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
"शौर्य"
Lohit Tamta
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
Loading...