Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2022 · 1 min read

संविधान को लागू करने की ज़िम्मेदारी

यह कैसी
विडम्बना है कि
आज दुनिया के
एक बेहतरीन
संविधान को
लागू करने की
ज़िम्मेदारी
इसके बदतरीन
लोगों के
हाथ में है!
#Constitution #जातिवाद
#casteist_collegium
#Feudalism #सामंतवाद
#Patriarchy #ManuSmriti
#पितृसत्ता #Police #EVM
#SupremeCourt #हकमारी
#ElectionCommission

Language: Hindi
390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
"लिख दो"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
सफलता की जननी त्याग
सफलता की जननी त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
शायरी
शायरी
goutam shaw
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
100 से अधिक हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं की पते:-
100 से अधिक हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं की पते:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Writing Challenge- वादा (Promise)
Writing Challenge- वादा (Promise)
Sahityapedia
*पढ़ो जब भी कहानी, वीरता-साहस की ही पढ़ना (मुक्तक)*
*पढ़ो जब भी कहानी, वीरता-साहस की ही पढ़ना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ Rãthí
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है
Jitendra Chhonkar
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
"वो अक्स "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
Loading...