Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2018 · 2 min read

संत से बना है शैतान आसाराम -आर के रस्तोगी

संत से बना है शैतान आसाराम
हजारो गलत किये इसने काम
उन काली करतूतों के ही कारण
काल कोठरी में बंद हुआ आसाराम

जज ने जब अपना निर्णय सुनाया
अपने कर्मो का फल इसे याद आया
भरी अदालत में सिर पकड कर
सुबक सुबक कर रो रहा था आसाराम

तीन गवाहों को मरवाया था इसने
जो गवाह थे केस में इसके
उनके मरवाने पर क्यों नहीं रोया ?
अब तू क्यों रोता है आसाराम ?

“जैसी करणी वैसी भरनी”
पापो का तेरा घडा फूट गया
अब तू ता उमर जेल में रहेगा
कैदी न.130 बना है आसाराम

पहले तो छोटा सा आश्रम तेरा
अहमदाबाद में साबरमती किनारे
400 से ज्यादा आश्रम बनाये तूने
कैसे बनाये बता तू आसाराम ?

अरबो की सम्पति पास है तेरे
अरमान भरे नहीं अब भी तेरे
हेरा फेरी करता है तू सांझ सबेरे
बता तू कैसे ये बनाई आसाराम ?

संत नहीं है बहरूपिया है तू
नित्य नए रूप रचता है तू
कभी शिव बना कभी कृष्ण बना
क्यों ऐसा करता था तू आसाराम ?

फितरत पता चल गई है तेरी
तू करता था शराब में हेरा फेरी
17 अप्रैल 41 में पैदाइश तेरी
पाकिस्तान में जन्मा था आसाराम

पापो का अम्बार लगाया तूने
बचिच्यो को भी न छोड़ा तूने
क्यों करता था तू ऐसे काम ?
जल्दी बता तू अब आसाराम ?

नेता भी तेरे पास आते थे
क्या काम था क्यों आते थे ?
उनसे भी तू मिला हुआ था
बताओ उनके नाम आसाराम ?

जनता का तूने बेबकूफ बनाया
भक्तो की भी छीनी तूने माया
उनकी आस्था पर दाग लगाया
माफ़ ने करेगे तुझे वे आसाराम

आर के रस्तोगी
मो. 9971006425

Language: Hindi
305 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
Phool gufran
कहाँ तक जाओगे दिल को जलाने वाले
कहाँ तक जाओगे दिल को जलाने वाले
VINOD CHAUHAN
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
आने वाला कल
आने वाला कल
Dr. Upasana Pandey
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
Anil Mishra Prahari
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
"नया साल में"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ी सादगी से सच को झूठ,
बड़ी सादगी से सच को झूठ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
सच तों आज कहां है।
सच तों आज कहां है।
Neeraj Agarwal
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
सत्य कुमार प्रेमी
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मन को भिगो दे
मन को भिगो दे
हिमांशु Kulshrestha
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
Loading...