Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

संत की महिमा

संतो की बात न कहिये,
संत की ना कोई काया है,
पूर्ण ज्ञान जो पा सका,
आनंद उसकी ही छाया है।…..(१)

शांत मन प्रेम की वाणी,
भोजन भिक्षा में पाया है,
संत गुरु दिए ज्ञान बिना,
भव सागर ना तज पाया है।…..(२)

संतो का रूप एक है,
कह गये संत अनेक है,
मन निर्मल विचार शुद्ध,
हृदय में बसता वो एक है।……(३)

संत रहे या ना रहे,
कह गये बात सिर्फ नेक है,
संत वाणी को ध्यान कर,
स्वयम् का रूप पहचान बस।…..(४)

संत कृपा अब किजिये,
मुक्ति का मार्ग दीजिये,
बहुतेरे को सत्य वचन दे गये,
प्रसन्न मन से मुक्त हो गये।……(५)

रचनाकार –
✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा,
हमीरपुर ।

6 Likes · 6 Comments · 63 Views
You may also like:
नमन करूँ कर जोर
Dr. Sunita Singh
यकीं करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"नजीबुल्लाह: एक महान राष्ट्रपति का दुखदाई अन्त"
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रूठे रूठे से हुजूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
आखिरी शब्द
Pooja Singh
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
नया दौर ( छोटी कहानी )*
Ravi Prakash
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
जवानी
Dr.sima
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Kaur Surinder
मस्तान मियां
Shivkumar Bilagrami
प्यार:एक ख्वाब
Nishant prakhar
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी...
Dr Archana Gupta
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जख्म
Anamika Singh
भगवान चित्रगुप्त
पंकज कुमार कर्ण
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
एक छोटी सी बात
Hareram कुमार प्रीतम
हम भूल गए सच में, संस्कृति को
gurudeenverma198
दोहा
नवल किशोर सिंह
मजदूर।
Anil Mishra Prahari
जीवन संगीत
Shyam Sundar Subramanian
Loading...