Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

संघर्षी वृक्ष

कुछ संवर गया, कुछ उजड़ गया
ये तेरी उम्र थी, ये तेरा हिस्सा था
टूट कर तुझसे बिछड़ गया
हवा आयी थी तूफा और झोंका बनकर
मैंने देखा तूने कोशिश की, या मनमानी की
तू थोड़ा संभला और थोड़ा फिसल गया ।
खैर तू अब भी अपने काम का है
साथी अपने शाम का है
हम झूलेगे, हम खेलेगे
की फलसफा तू बचपन के आराम का है।
तुम्हें सबकी खिल खिलाहट सुनाई तो देती होगी
भूल हुई तूफा वाले मंजर से, प्रकृति सफाई तो देती होगी
तू नवजीवन ले, फिर से पन्पेगा
प्रकृति के अँगना में विशाल हो कर तनेगा
अगली बार तू खुद आंधी बन जाना
झुमना, गाना शोर मचाना।
तेरे ठंडक में हम भी झुलेगे
तू साथी है, ये कभी ना भुलेगे।।।

2 Likes · 1 Comment · 510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
Dr MusafiR BaithA
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
"जस्टिस"
Dr. Kishan tandon kranti
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धन्य होता हर व्यक्ति
धन्य होता हर व्यक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
बोला लड्डू मैं बड़ा, रसगुल्ला बेकार ( हास्य कुंडलिया )
बोला लड्डू मैं बड़ा, रसगुल्ला बेकार ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता "अयन"
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पुण्य आत्मा
पुण्य आत्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
Phool gufran
जरूरी है
जरूरी है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
Rj Anand Prajapati
पर्यावरण संरक्षण
पर्यावरण संरक्षण
Pratibha Pandey
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
अच्छे समय का
अच्छे समय का
Santosh Shrivastava
एक नज़र में
एक नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
■ पांचजन्य के डुप्लीकेट।
■ पांचजन्य के डुप्लीकेट।
*प्रणय प्रभात*
वृद्धावस्था
वृद्धावस्था
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
Loading...