Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

संघर्षशीलता की दरकार है।

आँखों के आगे हैं उजाले, पर छा रहा अंधकार है,
भय ने है पंख पसारे, और उम्मीदें हुईं तार-तार है।
बोझिल हो रही हैं साँसें, पर अश्रु पर बैठा पहरेदार है,
धड़कनों में है गहन शोर, और निःशब्दिता की लम्बी कतार है।
शत्रुता है ये वक़्त की, या नियति का विस्तृत व्यापार है,
क्षणभंगुर सा है ये जीवन, बस यादों की शाश्वतता बरकरार है।
यथार्थ को स्वीकारे बैठा है मस्तिष्क, पर हृदय पर चल चुकी कटार है,
कंपित पग चल रहे हैं पथ पर, मंजिल जिसकी दुशवार है।
रूठूँ किससे पता नहीं ये, जब प्रतिबिम्ब स्वयं का हीं बेज़ार है,
निगाहें कितनी हीं हैं घात लगाए, तो कवच खुद से किया तैयार है।
युद्ध है ये परिस्थितियों का, या विवशताओं का सघन संसार है,
पीड़ा की असीमता प्रचंड है पर, संघर्षशीलता की दरकार है।

58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
दाना
दाना
Satish Srijan
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
1...
1...
Kumud Srivastava
सच ज़िंदगी के रंगमंच के साथ हैं
सच ज़िंदगी के रंगमंच के साथ हैं
Neeraj Agarwal
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
■ आत्मावलोकन।
■ आत्मावलोकन।
*प्रणय प्रभात*
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
.......
.......
शेखर सिंह
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (4)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (4)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
Sanjay ' शून्य'
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
"कैंची"
Dr. Kishan tandon kranti
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
Monika Arora
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दिल हो काबू में....😂
दिल हो काबू में....😂
Jitendra Chhonkar
Loading...