Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

संगीत

सातों सुर संगम करे, तब बनता संगीत|
हो मुखरित सुर साधना, भरे हृदय में प्रीत|

सुर की सरिता से सजे, अंतरमन का साज़|
सुर, गति, लय, ताल से, गूँज उठे आवाज़|
मधुर तान सुनकर सभी, बन जातें हैं मीत|
सातों सुर संगम करे, तब बनता संगीत|

कण-कण में संगीत से, भरा हुआ संसार|
ध्यान लगाकर सुन ज़रा, ये सुखमय झनकार|
टूटे दिल को जोड़ना, है सरगम की रीत|
सातों सुर संगम करे, तब बनता संगीत|

जिसके उर में है भरा, सुर की निर्मल धार|
बैर भाव को भूल कर, सबसे करता प्यार|
फर्क नहीं पड़ता उसे, मिले हार या जीत|
सातों सुर संगम करे, तब बनता संगीत|
-वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
Kathputali bana sansar
Kathputali bana sansar
Sakshi Tripathi
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
Manisha Manjari
मैं को तुम
मैं को तुम
Dr fauzia Naseem shad
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
👌👌👌
👌👌👌
*Author प्रणय प्रभात*
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
Anil chobisa
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ वो है जिसे
माँ वो है जिसे
shabina. Naaz
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
2405.पूर्णिका
2405.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
Loading...