Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

संकल्प

आशाओं के दीप जलाने का संकल्प है,
निष्प्राण जीवन में नव प्राण लाने का संकल्प है।

आत्म मंथन कर मनोयोग से एकाग्रचित्त होना है,
प्रभु स्मृति में खोकर मन को साधने का संकल्प है।

कर्मयोगी बनकर कर्तव्य पथ पर बढ़ते जाना है,
परहित के कार्य कर आनंदित होने का संकल्प है।

ज्योति जलाकर आत्मा की मन में प्रकाश भरना है,
दिव्य गुणों को धारण कर सुवास भरने का संकल्प है।

मन वचन कर्म से पवित्रता का दामन थाम कर,
निरर्थक से हाथ छुड़ा भाग्योदय को पहचाने का संकल्प है।

डॉ दवीना अमर ठकराल’देविका’

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2594.पूर्णिका
2594.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Insaan badal jata hai
Insaan badal jata hai
Aisha Mohan
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
4. गुलिस्तान
4. गुलिस्तान
Rajeev Dutta
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*प्रणय प्रभात*
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
काली मां
काली मां
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...