Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

संकल्प

क्या जीत ? क्या हार ?
समय से बंधा सारा संसार ,

किसी दिन जीत है तो
किसी दिन हार ,
सब नियति का चक्र है, कर मत
अधिक विचार,

तेरी लगन ही तुझे निराशा सागर से
पार लगाएगी ,
तेरे दृढ़संकल्प से ही
विजय पताका फहराएगी ,

अपने ध्येय से अडिग तू कर्मपथ पर
बढ़ता चल ,
आशा की ज्योति जगाए तेरा आत्मविश्वास
हो अटल ,

सकारात्मक सोच से करता रहे
तू सतत् प्रयास ,
तब सफलता के क्षितिज से निश्चित
उदित होगा
तेरे भाग्य का प्रकाश !

Language: Hindi
1 Like · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
ससुराल का परिचय
ससुराल का परिचय
Seema gupta,Alwar
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
Harminder Kaur
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
लिखना
लिखना
Shweta Soni
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
सोच
सोच
Sûrëkhâ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
Dr Archana Gupta
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
खुला आसमान
खुला आसमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
Loading...