Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

“संकल्प-शक्ति”

“संकल्प-शक्ति”
रुचियाँ बनती हैं
कभी बिगड़ती भी हैं
कभी दुःखद पश्चाताप में
खत्म भी हो जाती हैं,
लेकिन संकल्प-शक्ति
जीत की ओर ले जाती है।

1 Like · 1 Comment · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
3422⚘ *पूर्णिका* ⚘
3422⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
दिव्य ज्ञान~
दिव्य ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
ऐ!दर्द
ऐ!दर्द
Satish Srijan
नयनजल
नयनजल
surenderpal vaidya
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
आज रात कोजागरी....
आज रात कोजागरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नौका विहार
नौका विहार
Dr Parveen Thakur
बुद्ध होने का अर्थ
बुद्ध होने का अर्थ
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सुपारी
सुपारी
Dr. Kishan tandon kranti
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
जीवन में ऐश्वर्य के,
जीवन में ऐश्वर्य के,
sushil sarna
■ आज का खुलासा...!!
■ आज का खुलासा...!!
*प्रणय प्रभात*
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
Phool gufran
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
Loading...