Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

षड्यंत्रों की कमी नहीं है

मन का केवल भेद चाहिए
षड्यंत्रों की कमी नहीं है

चौसर पर हैं हम सब यारों
शकुनि पासा फेंक रहा है
कह द्रोपदी लाज की मारी
कलियुग आंखें सेंक रहा है
कहे क्या मन का दुर्योधन
षड्यंत्रों की कमी नहीं है।

दूं क्या परिचय तुमको
क्या मैं इतिहास सुनाऊं
नाम, पता, आयु, शिक्षा
संप्रति की आस जगाऊं
पड़े हैं सांसों पर ताले
षड्यंत्रों की कमी नहीं है।

इस बस्ती में अंगारों की
निंदा, छल, कपट खड़े हैं
आग, आग है हर सीने में
तन कर सभी तन खड़े हैं

रक्त सभी के खौल रहे हैं
षड्यंत्रों की कमी नहीं है।।
-सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
उसी पथ से
उसी पथ से
Kavita Chouhan
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
कवि रमेशराज
प्यार का गीत
प्यार का गीत
Neelam Sharma
ऐसे साथ की जरूरत
ऐसे साथ की जरूरत
Vandna Thakur
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
याद
याद
Kanchan Khanna
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
नया भारत
नया भारत
गुमनाम 'बाबा'
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
3286.*पूर्णिका*
3286.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुखद अंत 🐘
दुखद अंत 🐘
Rajni kapoor
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
Loading...