Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

श्वान संवाद

एक गली के कुत्ते में दूसरे कुत्ते से कहा ,

हम तो भौंकते हैं खतरे से आगाह करने के लिए ,
गली में घुसने वाले चोरों को भगाने के लिए ,

पर ये क्या इंसान तो एक दूसरे पर भौंक रहे हैं
लांछन लगाने के लिए ,
कभी धर्म , कभी जाति की राजनीति में भड़का कर
आग लगाने के लिए ,

इनसे तो हम बेहतर हैं दुश्मन का मुकाबला करने के लिए एकजुट हो जाते हैं ,
पर ये इंसान खेमों में बँटकर अपने स्वार्थ के लिए दुश्मन के साथ हो जाते हैं ,

ये इंसान हमारी जाति का उपयोग गाली में करते हैं ,
पर ये भूल जाते हैं कि हमारा एक गुण
वफादारी भी है ,
जिसकी कमी आजकल उनके
चरित्र में है ,

ये हमें तुच्छ और निकृष्ट नामित करते हैं ,
पर अपने चरित्र का आकलन कर नहीं देखते हैं ,
इंसान कितने धूर्त और भ्रष्ट हैं जो
अपनों से दगा करते हैं ,

हम जानवर जिस इंसान को अपना मानते हैं ,
मरते दम तक साथ निभाते हैं ,
हम इंसान की जान बचाने के लिए अपने प्राणों की आहुति देने से भी नहीं चूकते हैं ,

पर इंसान जिस थाली में खाते हैं ,
उसी में छेद कर देते हैं ,
अपने स्वार्थ के लिए अपने ही दोस्त के
पीठ पर छुरा घोंप देते हैं।

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तन्हाई के पर्दे पर
तन्हाई के पर्दे पर
Surinder blackpen
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
गंदा धंधा
गंदा धंधा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"आंधी आए अंधड़ आए पर्वत कब डर सकते हैं?
*Author प्रणय प्रभात*
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
मदर टंग
मदर टंग
Ms.Ankit Halke jha
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
"ढिठाई"
Dr. Kishan tandon kranti
नया भारत
नया भारत
दुष्यन्त 'बाबा'
जीवन है
जीवन है
Dr fauzia Naseem shad
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
फूल रहा जमकर फागुन,झूम उठा मन का आंगन
फूल रहा जमकर फागुन,झूम उठा मन का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
संत एकनाथ महाराज
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
Loading...