Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2022 · 5 min read

*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर – कमलों द्वारा मेरी पुस्तक “रामपुर के रत्न” का लोकार्पण*

श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर – कमलों द्वारा मेरी पुस्तक “रामपुर के रत्न” का लोकार्पण
_______________________________________
7 नवंबर 1986 को मेरी दूसरी पुस्तक रामपुर के रत्न का लोकार्पण सुप्रसिद्ध साहित्यकार श्री विष्णु प्रभाकर के कर – कमलों द्वारा हुआ था । आज भी जब सोचता हूँ कि श्री विष्णु प्रभाकर जी केवल इसी एकमात्र कार्य के लिए दिल्ली से चलकर रामपुर आए ,तो कृतज्ञता से उनकी सहृदयता के प्रति नतमस्तक हो जाता हूँ।
” रामपुर के रत्न ” में 14 महापुरुषों के जीवन – चरित्र लिखे गए थे और इस पुस्तक का लोकार्पण श्री विष्णु प्रभाकर जी से करा लिया जाए ,ऐसी इच्छा थी। कारण यह था और साहस भी इसलिए पड़ रहा था क्योंकि विष्णु प्रभाकर जी सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक से बहुत लंबे समय से जुड़े हुए थे । एक लेखक के तौर पर वह कृपा करके अपनी रचनाएँ प्रकाशन के लिए भेजते थे । पाठक के तौर पर उनकी प्रतिक्रियाएँ समय-समय पर साप्ताहिक पत्र को मिलती रहती थीं। जब मैंने रामायण पर कुछ लेख लिखे और “शंबूक वध :एक मूल्यांकन “लेख लिखा, तब विष्णु प्रभाकर जी की प्रोत्साहन से भरी हुई चिट्ठी मुझे मिली थी । इसके अलावा भी उनके दसियों पत्र हैं ,जो समय समय पर विभिन्न पुस्तकों पर आशीर्वाद स्वरूप प्राप्त हुए हैं ।

“रामपुर के रत्न” पुस्तक के लिए विष्णु प्रभाकर जी आ जाएँगे ,यह तभी संभव हुआ जब श्री महेंद्र प्रसाद गुप्त जी ने इस कार्य को अपने जिम्मे ले लिया। उन्होंने पत्र – व्यवहार करके विष्णु प्रभाकर जी से संपर्क साधा और विष्णु प्रभाकर जी पुस्तक के लोकार्पण के लिए आने को राजी हो गए । केवल राजी ही नहीं अपितु बड़े आश्चर्य की बात है कि वह उत्साहित थे। “विमोचन” के स्थान पर “लोकार्पण” शब्द भी शायद विष्णु प्रभाकर जी ने ही सुझाया था और यह अच्छा भी लगा तथा इसे हम लोगों ने अमल में भी लाया ।

विष्णु प्रभाकर जी को मुरादाबाद से रामपुर लाने के लिए रेलवे स्टेशन पर यहाँ से मैं ,श्री महेंद्र जी और डॉ नागेंद्र कार से मुरादाबाद गए थे । मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर ही सुप्रसिद्ध नव गीतकार श्री माहेश्वर तिवारी जी भी पधारे थे । वह भी विष्णु प्रभाकर जी को प्रणाम करने के उद्देश्य से ही आए थे । वास्तव में देखा जाए तो विष्णु प्रभाकर जी का वृद्धावस्था में ट्रेन का सफर करके मुरादाबाद पहुँचना तथा मुरादाबाद से कार द्वारा रामपुर आना एक बहुत ही थकाने वाली यात्रा थी । केवल नए साहित्यकारों से संपर्क रखते हुए उन्हें आशीर्वाद देने की भावना ही इस यात्रा के लिए उन्हें बल प्रदान करती रही होगी ,ऐसा मेरा मानना है ।

विष्णु प्रभाकर जी की जिस सादगी की हम कल्पना करते थे ,वह उसी की प्रतिमूर्ति थे। खद्दर के वस्त्र उनकी गाँधीवादी तथा सादगी में जीने की शैली को प्रकट करते थे । केवल इतना ही नहीं उनका कोई मीन – मेख अथवा परेशान करने वाली कोई बात उनके व्यवहार में नहीं दिखी । वह एक बहुत बड़े साहित्यकार हैं तथा एक छोटे से आयोजन के लिए पधारे हैं, इस बात को लेकर कोई अपना अहंकार उन्होंने किसी भी स्तर पर नहीं दिखाया। भोजन ,आवास आदि की व्यवस्थाओं में उनका कोई पूर्वाग्रह नहीं था । जैसा प्रबंध हम लोगों ने किया था ,वह उससे संतुष्ट थे, यह उनका बड़प्पन ही था।

लोकार्पण के अवसर पर उनका भाषण अत्यंत प्रेरणादायक था। लोकार्पण समारोह से पहले मैं और विष्णु प्रभाकर जी समारोह – कक्ष के निकट ही एक अन्य कक्ष में 10 – 5 मिनट बैठे थे । वहाँ मैंने देखा कि विष्णु प्रभाकर जी ने अपनी जेब से कागज का एक छोटा सा पर्चा निकाला और उस पर एक निगाह डाली । मैं समझ गया कि यह कुछ बिंदु है ,जिन पर उन्हें अपना भाषण देना है। सभी वक्ता थोड़ी – बहुत तैयारी इस दृष्टि से करके रखते हैं कि कोई महत्वपूर्ण बात उनके भाषण में छूट न जाए । विष्णु प्रभाकर जी ने भी इसी परिपाटी का अनुसरण किया था ।

रामपुर के प्रवास में आपके एक रिश्तेदार कोई मोदी फैक्ट्री में थे तथा आप उनसे मिलने के लिए भी उनके घर पर मेरे साथ गए थे । इसके अलावा श्री रघुवीर शरण दिवाकर राही जी के निवास पर भी भोजन का कार्यक्रम रखा गया था , क्योंकि दिवाकर जी का आग्रह था । मेरे ख्याल से महेश राही जी के महल सराय ,किला स्थित निवास पर भी वह मेरे साथ रिक्शा पर बैठकर गए थे । इस सारे भ्रमण में अत्यंत आत्मीयता पूर्वक उनका व्यवहार रहा । भोजन करते समय जब उनका फोटो खींचने का किसी ने प्रयत्न किया था, तब उन्होंने यह टिप्पणी अवश्य की थी कि खाना खाते समय फोटो नहीं खींचते हैं । यह बात भी बहुत मुस्कुराते हुए ही उन्होंने कही थी।

लोकार्पण के पश्चात (शायद महेंद्र जी के घर पर )जब मैंने उनसे आग्रह किया कि आप “रामपुर के रत्न” की एक प्रति पर अपने हस्ताक्षर करके मुझे भेंट कर दीजिए, तो उन्होंने बहुत विनम्रता पूर्वक कहा था कि यह मेरा अधिकार नहीं है । लेकिन जब मैंने उनसे दोबारा कहा, तब उन्होंने बिना देर किए अपने हस्ताक्षर करके पुस्तक की एक प्रति मुझे सौंप दी । बाद में जब मैंने अपनी अन्य पुस्तकों के लोकार्पण करवाए तथा कुछ अन्य लेखकों की पुस्तकों के लोकार्पण समारोहों में गया ,तब मैंने इस बात को नोट किया कि न केवल लोकार्पणकर्ता अपितु मंच पर आसीन अध्यक्ष तथा मुख्य अतिथि भी लोकार्पित पुस्तक की एक प्रति पर सामूहिक रूप से अपने हस्ताक्षर करके स्मृति – स्वरूप लेखक को सौंप देते हैं। मेरे एक कहानी संग्रह पर लोकार्पणकर्ता श्री मोहदत्त साथी ने न केवल अपने हस्ताक्षर किए अपितु मंचासीन मोदी फैक्ट्री के वरिष्ठ अधिकारी कविवर श्री आर .के. माथुर के हस्ताक्षर भी उस पर अंकित कराए थे। विष्णु प्रभाकर जी मुझे भेंट करने के लिए अपने साथ एक कहानी संग्रह तथा शुचि स्मिता नामक पुस्तकें भी साथ लाए थे। शुचि स्मिता में उनकी पत्नी के देहांत के उपरांत श्रद्धाँजलियाँ प्रकाशित हुई थीं। पुस्तकों की अमूल्य भेंट के लिए मैं उनका आभारी हूँ।

घर के एक बुजुर्ग की भाँति उनका स्नेह बराबर मिलता रहा। कार्यक्रम के उपरांत जब वह कार में बैठकर दिल्ली के लिए रवाना हुए, तब उनके जाने के पश्चात मन ने यही कहा कि कहीं यह सपना तो नहीं था कि विष्णु प्रभाकर जी “रामपुर के रत्न” के लोकार्पण के लिए रामपुर आए थे ? सत्य ही है कि विष्णु प्रभाकर जी की उदारता और उनके साहित्यिक – ऋण के प्रति आभार शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता । उनकी पावन स्मृति को शत – शत नमन ।
_____________________________________
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
696 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रेम
प्रेम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
2532.पूर्णिका
2532.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम
हम "फलाने" को
*Author प्रणय प्रभात*
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
कविता
कविता
Rambali Mishra
"अक्ल बेचारा"
Dr. Kishan tandon kranti
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
***
*** " विवशता की दहलीज पर , कुसुम कुमारी....!!! " ***
VEDANTA PATEL
वैलेंटाइन डे पर कविता
वैलेंटाइन डे पर कविता
Shekhar Chandra Mitra
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...