Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2022 · 1 min read

श्रीराम

राम ही तो मोह हैं और राम ही हैं त्याग भी
राम ही विराग हैं और राम ही हैं राग भी
जहाँ जहाँ है दृष्टि जाये वहाँ वहाँ श्री राम हैं
बंद नेत्रों में भी तो दिखते वही अभिराम हैं
है कौन सी जगह यहाँ जो राम नाम रिक्त है
सृष्टि का हर कण यहाँ बस राम नाम सिक्त है
पुरुष से पुरुषोत्तम की राह दिखाते राम हैं
संसार की हर शय को आदर्श बनाते राम हैं
धूप बारिश अनल अनिल राम ही तो छाँव हैं
भटके हुए हर प्राणी की राम ही तो ठाँव हैं
राम ही तो बल भी हैं और राम ही बलवान भी
राम ही संसार हैं और राम ही भगवान भी
सुरेखा कादियान ‘सृजना’

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं💐 🙏

Language: Hindi
11 Likes · 1 Comment · 532 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
Ranjeet kumar patre
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
रंग बरसे
रंग बरसे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मेरी समझ में आज तक
मेरी समझ में आज तक
*Author प्रणय प्रभात*
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*शिवजी का धनुष (कुंडलिया)*
*शिवजी का धनुष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"सचमुच"
Dr. Kishan tandon kranti
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
दिल
दिल
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
कहां गये हम
कहां गये हम
Surinder blackpen
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
लड़ते रहो
लड़ते रहो
Vivek Pandey
Loading...