Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

शोषण

पोषण के नाम पर शोषण
हर जगह है शोषण
चाहे हो रेल चाहे हो जेल
हर जगह है शोषण का खेल

कहीं श्रम शोषण
कहीं यौन शोषण
कहीं मन का शोषण
तो कहीं धन का शोषण,

कल कारखानों में मजदूरों
का शोषण
हॉस्पिटल दवाखाना में
मरीजों का शोषण,
अनाथालय में अनाथों का शोषण
विद्यालय में सनाथों का शोषण;

ये प्रकृति प्रदत्त है या ,मानव निर्मित
कुछ समझ में नहीं आता
क्योंकि बड़ी मछली छोटी मछली को खाती है,
और बड़ा वृक्ष छोटे वृक्ष का हवा पानी

कहना ये मुश्किल होगा इसकी शुरुआत
कहां से हुई ?
शायद बड़ा बनने की चाह
या विषय वासना से युक्त अय्याशी जीवन
जीने की उत्कंठा,

धर्म के नाम पर भक्तों का शोषण
गुरु शिष्य परंपरा में गुरु दक्षिणा के नाम पर
शोषण,

शोषण से मुक्ति का सायद हीं
हैं कोई युक्ति, क्योंकि नर नारी दोनो की है
इसमें संलिप्ति,

सरकार करे कर्मचारी का शोषण
कर्मचारी करे जनता का शोषण
अवरोही क्रम में चलता है शोषण
रुकता नहीं चलता है शोषण

मासूम बालाओं का यौन शोषण
करता है सारा सिस्टम,
देख हैरत अंगेज घटना
आती है इस्तीफे की नौबत

किंतु जांच फटकार में
बीत जाता है समय
और सब कुछ सपाट हो जाता है
फिर शुरू हो जाता है
शोषण……..

1 Like · 557 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from साहिल
View all
You may also like:
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
खुदा पर है यकीन।
खुदा पर है यकीन।
Taj Mohammad
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
Vishal babu (vishu)
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*मृत्युलोक में देह काल ने, कुतर-कुतर कर खाई (गीत)*
*मृत्युलोक में देह काल ने, कुतर-कुतर कर खाई (गीत)*
Ravi Prakash
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
Loading...