Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

शून्य सा अवशेष मैं…

इन शून्य विहीन आँखों से
जब निहारता में शून्य को,

तो शून्य सा अवशेष मैं
खो रहा इस शून्य में,

इंसान भी निज स्वार्थ में
हो गया अब शून्य है,

शून्य है बे-असर मग़र
खो रहे सब शून्य में,

मस्तिष्क अगर हो शून्य गया
तो बिखर जाओगे शून्य से,

आँखों में “अहम्” का गुरूर लिऐ
खो गये अनेकों शून्य में,

सौ, हजार और लाख में
खेल है बस शून्य का,

शून्य के इस खेल में
तुम हो रहे सब शून्य हो,

मैं हूँ शून्य, तुम हो शून्य
सृष्ठि का उद्गम भी शून्य,

वासुदेव भी बता गये
सब निहित है इस शून्य में,

अर्थ विहीन, अस्तित्व रहित
ग़र है यही शून्य तो,

आर्यभट्ट को जानते फिर
क्यों है इसी शून्य से..???

शून्य सा “मैं” शून्य हो
देखता बस शून्य को,

अंत है इस शून्य में तो
हो रहे सब शून्य क्यों…???

शून्य के गुणगान में
मन हो रहा अब शून्य है,

शून्य सा अवशेष मैं
बस खो गया इस शून्य में….!!

Language: Hindi
313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सूरज का ताप
सूरज का ताप
Namita Gupta
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
GOVIND UIKEY
कान्हा तेरी नगरी
कान्हा तेरी नगरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
हे चाणक्य चले आओ
हे चाणक्य चले आओ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुश रहोगे कि ना बेईमान बनो
खुश रहोगे कि ना बेईमान बनो
Shweta Soni
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
एक तरफ़ा मोहब्बत
एक तरफ़ा मोहब्बत
Madhuyanka Raj
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
■ तजुर्बे की बात।
■ तजुर्बे की बात।
*प्रणय प्रभात*
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
*महानगर (पाँच दोहे)*
*महानगर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
"आत्मदाह"
Dr. Kishan tandon kranti
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...