Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

शुभ हो अक्षय तृतीया सभी को, मंगल सबका हो जाए

शुभ हो अक्षय तृतीया सभी को, मंगल सबका हो जाए
सदवृतियां चहुंओर बढ़ें,सकल अमंगल मिट जाए
पुण्य कर्म प्रकटें इस जग में, प्रेम की वगिया खिल जाए
सुख शांति और अमन, सारी धरती पर आ जाए
मानवता की ज्योति जले, भेदभाव सब मिट जाए
अन्याय आतंक मिटें,प़ीत परस्पर आ जाए
अक्षय हो ये धरा धाम, प्रेम गीत जन मन गाए
शुभकामनाएं सहित
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

1 Like · 634 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
अधूरे रह गये जो स्वप्न वो पूरे करेंगे
अधूरे रह गये जो स्वप्न वो पूरे करेंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
वेदना की संवेदना
वेदना की संवेदना
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नदी किनारे
नदी किनारे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"मुस्कुराते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
सुर्ख बिंदी
सुर्ख बिंदी
Awadhesh Singh
रामकृष्ण परमहंस
रामकृष्ण परमहंस
Indu Singh
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"ऊंट पे टांग" रख के नाच लीजिए। बस "ऊट-पटांग" मत लिखिए। ख़ुदा
*प्रणय प्रभात*
*सुबह हुई तो सबसे पहले, पढ़ते हम अखबार हैं (हिंदी गजल)*
*सुबह हुई तो सबसे पहले, पढ़ते हम अखबार हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
यूं मेरी आँख लग जाती है,
यूं मेरी आँख लग जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2496.पूर्णिका
2496.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
Loading...