Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

शीर्षक – स्वप्न

शीर्षक – स्वप्न
***********
जीवन में जिंदगी एक स्वप्न ही तो हैं।
नित्य प्रति कर्म फल की कामना तो है।
सच तो हमारे मन भावों में स्वप्न तो है।
जिज्ञासा और हम सभी सोचते तो हैं।
शायद स्वप्न रात को देखकर जागते तो हैं।
बस हम सभी अपने विचारों रहते तो है।
सच और झूठ फरेब मन भावों रखते तो हैं।
सच स्वप्न को साकार करने का मन तो हैं।
बस बात इतनी सी हमारी सोच ही तो हैं।
आज या कल हम नया स्वप्न देखते तो है।
बस भूल जाते हम जो कल देखा जो हैं।
हां सच वह केवल स्वप्न ही देखा वो है।
मेहनत और लगन बस एक शब्द ही तो हैं।
सच स्वप्न हमारे साथ साथ रहते तो हैं।
*************************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्वयं को सुधारें
स्वयं को सुधारें
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
संगीत........... जीवन हैं
संगीत........... जीवन हैं
Neeraj Agarwal
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
मौत की आड़ में
मौत की आड़ में
Dr fauzia Naseem shad
*रामराज्य में सब सुखी, सबके धन-भंडार (कुछ दोहे)*
*रामराज्य में सब सुखी, सबके धन-भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
जाति  धर्म  के नाम  पर, चुनने होगे  शूल ।
जाति धर्म के नाम पर, चुनने होगे शूल ।
sushil sarna
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
Vishal babu (vishu)
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
Arun Kumar Yadav
"सियासत का सेंसेक्स"
*Author प्रणय प्रभात*
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता - नदी का वजूद
कविता - नदी का वजूद
Akib Javed
मोर
मोर
Manu Vashistha
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
"नारियल"
Dr. Kishan tandon kranti
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
Loading...