Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 2 min read

शीर्षक – वेदना फूलों की

खूबसूरत फूलों के बाग में
एक दिन एक माली आया
रोज़ की तरह आया
इस बार उसने एक
नन्हें फूल को तोड़ना चाहा

नन्हें फूल ने कहा रुको……
अभी मुझे मत तोड़ो
मुझे सही से खिलने तो दो
मैं फूल हूं तो क्या
मुझे आज़ादी नहीं खिलने की क्या
मुझे कहां जाना होगा
यह निर्णय मेरा नहीं क्या

माली ने हंसते हुए कहा ……
तुम फूल हो सुगंध बिखेर सकते हो
दूसरों को सुशोभित कर सकते हो
इसके अलावा तुम्हें कोई कार्य नहीं है
यह सोचना व्यर्थ है कि…….

तो फूल ने कहा……. अगर ऐसा है तो
क्या फूल बनना मेरा अभिशाप नहीं

माली ने फिर कहा…..
प्रकृति का सुंदर वरदान हो तुम
मनुष्य की आंखों में समाए हो तुम

फूल ने फिर कहा ……
लेकिन मेरी आज़ादी तो तुम्हारे हाथों में है
तुम मुझे देवताओं को अर्पित करो
या किसी दुष्ट के गले का हार बनाओ
या वीर शहीदों के शवों पर मेरी शोभा बढ़ाओ
या किसी स्त्री के बालों में गूंथा जाऊं

माली ने फिर कहा कि…………
तुम फूल हो तुम्हारा कर्तव्य ही है महकना
तुम्हारी नियति ही है दूसरों को भाना
क्योंकी फूलों को सभी प्रेम करते हैं
और प्रेम की बेदी पर कुचलते हैं
यहीं भावना सब में होती है
अगर कोई तुमसे सच्चा प्रेम करता तो
तुम्हें अपने पैरों तले न रौंदता
ऐसा कृत्य करते हुए जहां उसे अहसास भी नहीं होता है
ख़ुद को सजाने हेतु तुम्हें न तोड़ता
वो तुम्हें तुम्हारे हाल में छोड़ता
तब ये सारी प्रकृति कितनी सुंदर होती
लेकिन तुम्हें तोड़कर उसने
तुम्हारे साथ साथ दूसरों को भी
अभिशाप दिया है
तुम ख़ुद टूटकर गिरते तो
बेजान गालियां भी खिल उठतीं
तुम्हारी चमक से दुनियां चमक उठती
तुम्हारी महक से दुनियां महक उठती
तुम्हारी सुंदरता से दुनियां
रंग बिरंगी और सुंदर होती
लेकिन स्वार्थ किसी का भी हो
सम्मान नहीं देता है
और लाभ तो दूर की बात है
कुछ क्षण के लिए खुशियां मिल सकती हैं तुम्हें तोड़कर
लेकिन तुम्हारे जीवित रहते सभी को खुशियां ही मिलती
प्रकृति सुशोभित और सुंदर रहती
तुम्हारे जीवित रहने से यह प्रकृति भी जीवित रहती
_ सोनम पुनीत दुबे

2 Likes · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
चांद का टुकड़ा
चांद का टुकड़ा
Santosh kumar Miri
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
शॉल (Shawl)
शॉल (Shawl)
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
एक शे'र
एक शे'र
रामश्याम हसीन
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
यारी
यारी
Dr. Mahesh Kumawat
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
" सूरज "
Dr. Kishan tandon kranti
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
हिलोरे लेता है
हिलोरे लेता है
हिमांशु Kulshrestha
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
surenderpal vaidya
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
धरती का बुखार
धरती का बुखार
Anil Kumar Mishra
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
Loading...