Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 2 min read

शीर्षक – रेल्वे फाटक

ज़िंदगी भर रोज़ की तरह
आज़ की सुबह सुबह
वो सब भी निकल पड़े
हर सुबह शाम की तरह

कुछ अलग नहीं था आज़
हर सुबह की तरह
किसी को जाना था दफ़्तर
तो किसी को जाना था स्कूल

भागदौड़ भरी जिंदगी में
कहां होता है सुकून
चल दिए चलते चलते
भीड़ का हिस्सा होते गए

सफ़र था लम्बा
था काम ये रोज का
थोड़ा सा भी लेट होते
फाटक रेल्वे के रोक लेते

सब का सफ़र
थम गया
कुछ क्षण वक्त
वहीं रुक गया

जो गाड़ियों में थे
वो इंतज़ार करते रह गए वहीं
फाटक खुलने का
सब वहीं थम गए

जो पैदल थे
जान जोख़िम में डाल
निकल गए
उस पार

कुछ फ़ोन उठा लिए
कुछ आपस में बतिआ लिए
कुछ चारों ओर नज़रें दौड़ा लिए
मैं भी उन्हीं में से थी

मैं देख रही थी
किनारें सड़क के पेड़ घनें थे
पेड़ खिलखिला रहे थे
मानो जैसे दुआ दे रहे हों

ठंडी हवाएं
चल रही थी
गर्मी में ठंडी
सांसे दे रहीं थी

पत्तियों की वर्षा
शुभ आशीस दे रहीं थी
मन में ख्याल आया
काश! ये फूल होते

कोई गम नहीं इस बात का
फूल नहीं मिले तो क्या
पत्तियों में ही
खुशियां ढूंढ लिए

देखा चारों तरफ़ मैंने
पीछे एक मुस्कुराता चेहरा
सारे चेहरों में था अकेला

जहां बाहर से सभी मौन थे
अंदर ही अंदर दुनियां समेटे
कुछ अपनी कुछ सपनों की
कुछ अपनी कुछ अपनों की
दुनियां समेटे
मशाल जलाए बैठे

एक युद्ध था होनें को
जो वक्त के विरुद्ध था
लेकिन वक्त तो रुका था
ज़िंदगी के मजे ले रहा था

मुझे कोई जल्दी नहीं थी
में देख रही थी सबको
पढ़ रही थी सबको

आंखें मेरी सबके
चेहरों पर टिकीं थी
चारों ओर नजरें मेरी
दौड़ रहीं थी

चारों ओर शांति छा गईं
ट्रेन के शोर गुल में
शांति कहीं गुम गई

जातें ही ट्रेन के
फाटक खुल गए
हड़बड़ी में ही कुछ लोग
गड़बड़ी कर गए

भागना था सबको
जल्दी थी भीड़ में खोने की
भीड़ का हिस्सा होने की

क्या करें ज़िंदगी है
ज़िंदगी से जुड़े हैं
ज़िंदगी उनसे हैं
जो हमसे जुड़े हैं
इसी लिए सुबह शाम
भाग रहें हैं

क्या थी अपनी ज़िन्दगी
अपने हैं तो
अपनी है ये ज़िंदगी

अपना नहीं तो
मौत भी अपना रस्ता
नहीं पूछती

अपनों से तो बनता घर संसार है
अपनों से होती अपनी पहचान है

_ सोनम पुनीत दुबे

1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
बुंदेली_मुकरियाँ
बुंदेली_मुकरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
Buddha Prakash
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रदूषण
प्रदूषण
Pushpa Tiwari
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
यहाँ पर सब की
यहाँ पर सब की
Dr fauzia Naseem shad
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
सच्चाई की कीमत
सच्चाई की कीमत
Dr Parveen Thakur
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
दहेज की जरूरत नही
दहेज की जरूरत नही
भरत कुमार सोलंकी
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
तेरा मेरा.....एक मोह
तेरा मेरा.....एक मोह
Neeraj Agarwal
Love's Sanctuary
Love's Sanctuary
Vedha Singh
Price less मोहब्बत 💔
Price less मोहब्बत 💔
Rohit yadav
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
कुमार अविनाश 'केसर'
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
Subhash Singhai
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
Loading...