Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

!! शिव-शक्ति !!

•• काशी नगरी त्रिशूल धरे
शशि माथे पर मुस्कान भरे

गंगाजी जटा से बहें झर-झर
जग के जैसे, सब पाप हरे

विष रोक हलाहल ग्रीवा में
‘प्रभु’ देवन के उद्धार करें

कर बजा रहे डमरू डम-डम
विषधर को गले का हार धरे

प्रभु सांवरी सी मुख मण्डल पर
अनगिनत बिजुरी प्रकाश परे

शिव-शक्ति विवाह की बेला पर”चुन्नू”
शिव चरणों को सिर-माथे धरे

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3132.*पूर्णिका*
3132.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोटा सा परिवेश हमारा
छोटा सा परिवेश हमारा
Er.Navaneet R Shandily
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
Phool gufran
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
"ठीक है कि भड़की हुई आग
*Author प्रणय प्रभात*
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
💐प्रेम कौतुक-321💐
💐प्रेम कौतुक-321💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*दफ्तर बाबू फाइलें,अफसर मालामाल 【हिंदी गजल/दोहा गीतिका】*
*दफ्तर बाबू फाइलें,अफसर मालामाल 【हिंदी गजल/दोहा गीतिका】*
Ravi Prakash
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
तुम्हारा प्यार साथ था गोया
तुम्हारा प्यार साथ था गोया
Ranjana Verma
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
Surinder blackpen
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...