Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2017 · 3 min read

शिवरात्रि? ? देवों के देव महादेव ?

शिवरात्रि?
? देवों के देव महादेव ?

शिव की महिमा अनन्त है। शिव अनादि है ,शिव वो महान दिव्य शक्ति है ,जिसके हम सब अंश है । भोलेनाथ ,शिव ही हैं जिन्होंने संसार को जहरीले विष से होने वाले विनाश से बचाने के लिये विष को स्वयं के कंठ में धारण कर लिया था ।संसार के समस्त जहरीले जीव ,पदार्थ ,परमात्मा शिव ने स्वयं में समाहित किये, संसार कल्याणार्थ ।
परमात्मा को हम मनुष्यों से कुछ नहीं चाहिए। वो तो स्वयं दाता है। उसी से लेकर उसे देना ……
वो दिव्य प्रकाश जो कई करोड़ सूर्यों के प्रकाश से भी कई अधिक गुना प्रकाश से परिपूर्ण है ,वो दिव्य अलौकिक शक्ति है “शिव महादेव”
ब्रह्मा, विष्णु, महेश , ब्रह्मा जी से संसार की उत्पत्ति हुई ,भगवान विष्णु उस संसार की पालना करते हैं । और हमारे समाज में ये धारणा है कि जब-जब धरती पर पाप कर्म अपनी चरम सीमा पर पहुंच जाते हैं ,तब-तब भगवान शंकर अपना तीसरा नेत्र खोलते हैं प्रलय आती है और पाप कर्मो का अंत होता है। यह मान्यता गलत भी नहीं है ।
शिवरात्रि के दिन कुछ लोग उपवास भी रखते है, शिवजी को प्रसन्न करने के लिये शिवलिंग पर भेलपत्री, पुष्प ,भांग, धतूरा ,फल फूल इत्यादि से जलाभिषेक,दुग्धाभिषेक भी किया जाता है।
हिन्दू धर्म की बहुत अच्छी बात है , कि यहाँ समय -समय पर व्रत, नियम, त्यौहार आदि के प्रारूप में बहुत से अनुष्ठान किये जाते हैं । पर इन व्रत नियमों का वास्तविक स्वरूप अब हम भूलते चले जा रहे हैं,और भेड़ चाल की तरह अपनी -अपनी स्वार्थ सिद्धि हेतु परमात्मा को खुश करने के लिए बिना सोचे-समझे बस कर्म कर रहे हैं ,मान्यता है कि शिवलिंग पर दूध चढ़ाने से शिवजी प्रसन्न होते है और हम नासमझी में न जाने कितने सैकड़ों लीटर दूध यूँ ही बहा देते हैं हम सोचते हैं कि भगवान खुश हो रहा है । वहीं मन्दिर के बहार खड़े किसी मजदूर के या गरीब भूखे बच्चे को दूध पिलाने में या उसे फल खिलाने में हम कहते हैं कि हमारे पास फालतू के पैसे नहीं है । अरे वही दूध ,फल और मन्दिर में चढ़ाने वाले पैसों को अगर हम निसहाय जरुरतमंद के सहायता में लगा दे तो, शायद हमारा भगवान बहुत खुश होगा ।क्योंकि हर आत्मा में परमात्मा है,हम सब उसी परमात्मा की किरणें हैं ।
ये मन्दिर, देवालय,हमारे ईष्ट भगवानों की प्रतिमाएं इस बात का प्रमाण हैं कि हमारे भागवान ऐसे दिव्य अलौकिक तेजोमय स्वरूप वाले थे । मैं परम्पराओं के ख़िलाफ़ बिलकुल नहीं हूँ पर इन परम्पराओं के पीछे छिपे रहस्यों को जानिये ।
चलिये इस शिवरात्रि भगवान शंकर के दर्शन करने हम पूर्ण श्रद्धा भाव से मन्दिर जायेंगे ,पूर्ण श्रद्धा से नमन करते हुए हम स्वयम को परमात्मा के द्वारा प्राप्त सेवा में लगायेंगे ।श्रद्धा के पुष्प चढ़ायेंगे, पूर्णरूपेण निष्ठा से स्वयं को उसकी आज्ञा में समर्पित कर शुभ कर्मों का नित प्रति दिन अभिषेक करेंगे । दान दक्षिणा का सेवा कार्यो में समर्पित करेंगे।
चलो इस शिवरात्रि प्रण लेते हैं, कि हम गरीब ,निसहाय बच्चों को भोजन करायेंगे दूध पिलायेंगे फल खिलायेंगे ,यकीन मानिये आपके भगवान भोले नाथ बहुत प्रसन्न होंगे ,और वहीं किसी बच्चों की पंक्ति में वह स्वयं किसी बच्चे के रूप में आपका दिया दूध ,फल इत्यादि दिल से स्वीकार करेंगे ।
और आपको निहाल करेंगे ।

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
सहारा
सहारा
Neeraj Agarwal
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
सफलता का बीज
सफलता का बीज
Dr. Kishan tandon kranti
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
Suryakant Dwivedi
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
इमोशनल पोस्ट
इमोशनल पोस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
3522.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3522.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
शेष न बचा
शेष न बचा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
Sahil Ahmad
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
sushil yadav
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
हिन्दी ही दोस्तों
हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
बेवक़ूफ़
बेवक़ूफ़
Otteri Selvakumar
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...