Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

*शिवजी की चली बारात, हम बाराती हैं (भक्ति गीत)*

शिवजी की चली बारात, हम बाराती हैं (भक्ति गीत)
_________________________
शिव जी की चली बारात, हम बाराती हैं
1
पाने चले हैं, ध्यान का गोता
कोई जागा है, कोई सोता
रस्म वरमाला वाली सब, हमको आती हैं
2
किसको ये मन है देह सॅंवारे
साधकगण हैं भीतर से सारे
बैंड-बाजे की ध्वनियॉं धुन, अनहद गाती हैं
3
आए वही जो सब कुछ छोड़े
दुनिया से अपने रिश्ते तोड़े
अविनाशी से मिलने की सुधियॉं छाती हैं
शिव जी की चली बारात, हम बाराती हैं
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
" रिवायत "
Dr. Kishan tandon kranti
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU SHARMA
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
23/189.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/189.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
खयालात( कविता )
खयालात( कविता )
Monika Yadav (Rachina)
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"समय का भरोसा नहीं है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक उदारता, वि
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
Ravi Prakash
सफलता का सोपान
सफलता का सोपान
Sandeep Pande
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुलोचना
सुलोचना
Santosh kumar Miri
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...