Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2017 · 2 min read

‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’

1 एक की तुलना दूसरे से हो रही;
हीनता के बीज सबमें बो रही,
प्रतिस्पर्धा की मूच्र्छा में डूबो रही;
‘स्वयं’ स्वयं को पाने से खो रही,
कैसे रही दिलों में तुम्हारे शान्ति;
अब कर दो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

2 गुलामी को जन्म देता अनुशासन;
निजता के फूल का करता दमन,
सम्पूर्ण व्यक्तित्व का होता हनन;
अतीत का रटाते रहते हैं चिंतन,
कहाॅं तक रखोगे तुम भ्रान्ति;
करनी होगी – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

3 बाप बेटे पर ढो रहा विचार;
चीटर सिखा रहे नीति-संस्कारों का भार,
उधार ज्ञान की झेलने से मार;
आता नहीं कहीं स्वतन्त्र व्यवहार,
क्यों उनकी तरह छुपाउॅं; नहीं रही शान्ति;
आगे आकर करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

4 अच्छे के लिए बुरे से शुरुआत;
दण्ड-भय-लोभ से करते हर बात,
स्मृतियों के कूडे की बना रहे जमात;
तनाव में बीत रहे सबके दिन-रात,
कहाॅं तक झेलोगे सब भ्रान्ति;
आना ही होगा करने – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

5 महत्वाकांक्षा की जडें हर ओर आज;
पक्षपातों का चला रहे वे राज,
राजनीति की भाषा बोल रहे हैं साज;
मतलब से बात करनी सिखाता समाज,
कहाॅं तक चिल्लाओगे-शान्ति!शान्ति!शान्ति!
तुम्हीं करोगे – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

6 ज्ञात की बात रटांए;
अज्ञात से भय बढांए,
ईष्या का रोग लगांए;
अहंकार के फूल उगांए,
अब नहीं चलेगी ये सब भ्रान्ति;
साहस से करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

7 संगीतज्ञ से डाॅक्टरी पढवाते;
कवि को इंजिनियरी सिखाते,
चित्रकार से शास्त्र रटवााते;
नर्तकों में वकालत जतवाते,
बुद्धिहीन नेताओं से नहीं रही कभी शान्ति;
मिलकर करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

8 लडके-लडकियों को कर दूर;
ब्रह्मचार्य के नाम दमन करते भरपूर,
प्रेम उपजे बिन उड जाए; ज्यों कर्पूर;
बलात्कार का यों बढ चला दस्तूर,
क्यों पाले बैठे हो दिलों में भ्रान्ति;
जमकर करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

9 झूठे संस्कारों की होली जला दो;
निजता के झण्डे जमा दो,
पाखंडियों के मुखौटे हटा दो;
अंधविश्वासों की राहें मिटा दो,
धैर्य संग मिलाकर फिर शान्ति;
ऐसे करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

10 स्मृतियों से होकर निर्भार;
विवेक से कर आंखें चार,
सबके व्यक्तित्व को स्वीकार;
हीनता को कर दो लाचार,
मिटा कर रख दो हर भ्रान्ति;
जग-कल्याण करेगी – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

11 अन्दर से सब ज्ञान उपजाओ;
आनन्द में खूब नाचो-गाओ,
‘स्व-सौन्दर्य’ में डूबो नहाओ;
‘अस्तित्व’ संग लय-बद्ध बह जाओ,
स्वशासन से जन्मेगी सच्ची शान्ति;
रंग लाएगी – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

12 धैर्य को दिल में बिठा लो;
निर्भय होकर होश जगा लो,
‘प्रेम-राह’ पर कदम बढा लो;
‘ध्यान-फूल’ से अमृत पा लो,
‘मौन-शान्ति’ से मिटेगी हर भ्रान्ति;
मानवता का ऐलान करेगी –
‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

1 तुलना 2 स्व- अनुशासन 3 स्व-संस्कार 4 अतीत 5 महत्वाकांक्षा 6 अहंकार- ईष्या 7 दमन 8 बलात्कार 9 दोहरा-व्यक्तित्व 10 हीनता 11 स्वशासन 12 ध्यान

अपनी राय जरूर देवें-
मा० राजेश लठवाल चिडाना (नैशनल अवार्डी) 9466435185

Language: Hindi
1 Like · 569 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
तू इंसान है
तू इंसान है
Sushil chauhan
राज्याभिषेक
राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
🙏🙏
🙏🙏
Neelam Sharma
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
जरूरत
जरूरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
कविता
कविता
Rambali Mishra
'ण' माने कुच्छ नहीं
'ण' माने कुच्छ नहीं
Satish Srijan
जिम्मेदारी किसकी?
जिम्मेदारी किसकी?
Shekhar Chandra Mitra
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*बेवफ़ा से इश्क़*
*बेवफ़ा से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2858.*पूर्णिका*
2858.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
तेरे नाम की
तेरे नाम की
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
नई सुबह नव वर्ष की
नई सुबह नव वर्ष की
जगदीश लववंशी
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
ख़ुद लड़िए, ख़ुद जीतिए,
ख़ुद लड़िए, ख़ुद जीतिए,
*Author प्रणय प्रभात*
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
Taj Mohammad
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
Loading...