Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’

1 एक की तुलना दूसरे से हो रही;
हीनता के बीज सबमें बो रही,
प्रतिस्पर्धा की मूच्र्छा में डूबो रही;
‘स्वयं’ स्वयं को पाने से खो रही,
कैसे रही दिलों में तुम्हारे शान्ति;
अब कर दो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

2 गुलामी को जन्म देता अनुशासन;
निजता के फूल का करता दमन,
सम्पूर्ण व्यक्तित्व का होता हनन;
अतीत का रटाते रहते हैं चिंतन,
कहाॅं तक रखोगे तुम भ्रान्ति;
करनी होगी – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

3 बाप बेटे पर ढो रहा विचार;
चीटर सिखा रहे नीति-संस्कारों का भार,
उधार ज्ञान की झेलने से मार;
आता नहीं कहीं स्वतन्त्र व्यवहार,
क्यों उनकी तरह छुपाउॅं; नहीं रही शान्ति;
आगे आकर करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

4 अच्छे के लिए बुरे से शुरुआत;
दण्ड-भय-लोभ से करते हर बात,
स्मृतियों के कूडे की बना रहे जमात;
तनाव में बीत रहे सबके दिन-रात,
कहाॅं तक झेलोगे सब भ्रान्ति;
आना ही होगा करने – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

5 महत्वाकांक्षा की जडें हर ओर आज;
पक्षपातों का चला रहे वे राज,
राजनीति की भाषा बोल रहे हैं साज;
मतलब से बात करनी सिखाता समाज,
कहाॅं तक चिल्लाओगे-शान्ति!शान्ति!शान्ति!
तुम्हीं करोगे – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

6 ज्ञात की बात रटांए;
अज्ञात से भय बढांए,
ईष्या का रोग लगांए;
अहंकार के फूल उगांए,
अब नहीं चलेगी ये सब भ्रान्ति;
साहस से करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

7 संगीतज्ञ से डाॅक्टरी पढवाते;
कवि को इंजिनियरी सिखाते,
चित्रकार से शास्त्र रटवााते;
नर्तकों में वकालत जतवाते,
बुद्धिहीन नेताओं से नहीं रही कभी शान्ति;
मिलकर करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

8 लडके-लडकियों को कर दूर;
ब्रह्मचार्य के नाम दमन करते भरपूर,
प्रेम उपजे बिन उड जाए; ज्यों कर्पूर;
बलात्कार का यों बढ चला दस्तूर,
क्यों पाले बैठे हो दिलों में भ्रान्ति;
जमकर करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

9 झूठे संस्कारों की होली जला दो;
निजता के झण्डे जमा दो,
पाखंडियों के मुखौटे हटा दो;
अंधविश्वासों की राहें मिटा दो,
धैर्य संग मिलाकर फिर शान्ति;
ऐसे करो – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

10 स्मृतियों से होकर निर्भार;
विवेक से कर आंखें चार,
सबके व्यक्तित्व को स्वीकार;
हीनता को कर दो लाचार,
मिटा कर रख दो हर भ्रान्ति;
जग-कल्याण करेगी – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

11 अन्दर से सब ज्ञान उपजाओ;
आनन्द में खूब नाचो-गाओ,
‘स्व-सौन्दर्य’ में डूबो नहाओ;
‘अस्तित्व’ संग लय-बद्ध बह जाओ,
स्वशासन से जन्मेगी सच्ची शान्ति;
रंग लाएगी – ‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

12 धैर्य को दिल में बिठा लो;
निर्भय होकर होश जगा लो,
‘प्रेम-राह’ पर कदम बढा लो;
‘ध्यान-फूल’ से अमृत पा लो,
‘मौन-शान्ति’ से मिटेगी हर भ्रान्ति;
मानवता का ऐलान करेगी –
‘शिक्षा में क्रान्ति’ ।।

1 तुलना 2 स्व- अनुशासन 3 स्व-संस्कार 4 अतीत 5 महत्वाकांक्षा 6 अहंकार- ईष्या 7 दमन 8 बलात्कार 9 दोहरा-व्यक्तित्व 10 हीनता 11 स्वशासन 12 ध्यान

अपनी राय जरूर देवें-
राजेश कुमार लठवाल
जे0 बी0 टी0 अध्यापक
रा0प्रा0पा0 गंगाना 17949
खण्ड मुण्डलाना सोनीपत ;हरियाणा
म0 न0 81 WB;
सैक्टर – 7
गोहाना , सोनीपत ;हरियाणा
9466435185

1 Like · 309 Views
You may also like:
💔💔...broken
Palak Shreya
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
सुन्दर घर
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
पिता
Kanchan Khanna
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
बोझ
आकांक्षा राय
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
Loading...