Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

शिकायत नही तू शुक्रिया कर

वैसे तो मुस्कुराने की वजह बहुत थी ,
मगर हम शिकायतों पर अड़े रहे।

खुद में कमियां बहुत थी
मगर हम दूसरों की ढूंढते रह गए।

एक उंगली अगर दूसरो की ओर
करो तो चारो उंगलियां हमे चिढ़ाती है,

औरो में तू क्या ढूंढता,
खुद में झांक ले यही तेरी समझदारी है।

गोते मार ले तू सागर में मोती तेरे कदमों पर होंगे।
उड़ ले तू आसमां में सितारे तेरे आगोश में होंगे।

कौन पोंछता है आंसू रोने वाले के,
हमेश तू मुस्कुराते चल।

जिंदगी का सूरज तो डूब जायेगा,
किसने देखा है कल।

शिकायत नही तू शुक्रिया कर
जिंदगी आसान हो जाएगी।

कांटो में तू गुलाब ढूंढ ले,
जीवन में खुशबू फैल जाएगी।

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
3318.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3318.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चोट शब्द की न जब सही जाए
चोट शब्द की न जब सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
*Author प्रणय प्रभात*
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
टूटी बटन
टूटी बटन
Awadhesh Singh
बिछड़ना जो था हम दोनों को कभी ना कभी,
बिछड़ना जो था हम दोनों को कभी ना कभी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
sushil yadav
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अथर्व आज जन्मदिन मनाएंगे
अथर्व आज जन्मदिन मनाएंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
★
पूर्वार्थ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
नेताम आर सी
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
Loading...