Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

शाहकार (महान कलाकृति)

जाने कौन-से अशआर!
बन जाएं तेरे शाहकार!!
तू बोलता रह बेबाकी से!
हर मुद्दे पर, ऐ फनकार!!
#शायर #कवि #बुद्धिजीवी
#लेखक #विद्रोही #नौजवान
#विपक्षी #दल #राजनीति #सच
#धर्म #हल्ला_बोल #पर्दाफाश
#poet #rebel #politics
#इंकलाब #बगावत #बेनकाब
#शेखर_चंद्र_मित्रा #महाकवि

Language: Hindi
301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
There are only two people in this
There are only two people in this
Ankita Patel
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*पाते हैं सौभाग्य से, पक्षी अपना नीड़ ( कुंडलिया )*
*पाते हैं सौभाग्य से, पक्षी अपना नीड़ ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
दुश्मनी इस तरह निभायेगा ।
दुश्मनी इस तरह निभायेगा ।
Dr fauzia Naseem shad
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
इश्क का तोता
इश्क का तोता
Neelam Sharma
"अवशेष"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-121💐
💐अज्ञात के प्रति-121💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक काफ़िर की दुआ
एक काफ़िर की दुआ
Shekhar Chandra Mitra
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
सितारों के बगैर
सितारों के बगैर
Satish Srijan
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#रोज़मर्रा
#रोज़मर्रा
*Author प्रणय प्रभात*
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
Loading...