Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

शायरी –

ये मेरी बेबसी है या मेरी गुरूरदारी है ;
चंद लम्हों की जिन्दगी में ख्वावजारी है |
ख्वाहिशों के दिये जो भी जले बुझते ही गये;
उन आंधियाों को कैसे रोकूं जिनसे मेरी यारी है |

Language: Hindi
Tag: शेर
1727 Views
You may also like:
पूँछ रहा है घायल भारत
rkchaudhary2012
'बदला जग मौसम भी बदला'
Godambari Negi
💐प्रेम की राह पर-60💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* महकाते रहे *
surenderpal vaidya
जन्मदिवस का महत्व...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
चाय की चुस्की
श्री रमण 'श्रीपद्'
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
★ दिल्लगी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
क्या यही ज़िंदगी है?
Shekhar Chandra Mitra
ज़मज़म देर तक नहीं रहता
Dr. Sunita Singh
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
Taj Mohammad
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
कला
मनोज कर्ण
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कौन बोलेगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
नारी का क्रोध
लक्ष्मी सिंह
ईश्वर का वरदान है उर्जा
Anamika Singh
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
✍️दिल बहल जाता है।✍️
'अशांत' शेखर
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
जड़त्व
Shyam Sundar Subramanian
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
# पैगाम - ए - दिवाली .....
Chinta netam " मन "
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गगरी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" निरोग योग "
Dr Meenu Poonia
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
उसने लफ़्ज़ों को लफ़्ज़ ही समझा
Dr fauzia Naseem shad
मन की बात
Rashmi Sanjay
Loading...