Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

शायरी

शायरी
तू ढूंढ़ रही हैं जहा तहां मैं तेरे दिल के पास हूं,
कुछ देर आंखे बंद करके देख मैं तेरे दिल का एहसास हूं,।

Jayvind Singh Ngariya Ji

183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#प्रयोगात्मक_कविता-
#प्रयोगात्मक_कविता-
*प्रणय प्रभात*
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आजकल लोग बहुत निष्ठुर हो गए हैं,
आजकल लोग बहुत निष्ठुर हो गए हैं,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ताप संताप के दोहे. . . .
ताप संताप के दोहे. . . .
sushil sarna
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
Satyaveer vaishnav
यादें
यादें
Dr fauzia Naseem shad
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
शीर्षक - चाय
शीर्षक - चाय
Neeraj Agarwal
यही जीवन है
यही जीवन है
Otteri Selvakumar
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
नक़ली असली चेहरा
नक़ली असली चेहरा
Dr. Rajeev Jain
"लोग"
Dr. Kishan tandon kranti
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*चॉंद की सैर (हास्य व्यंग्य)*
*चॉंद की सैर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Weekend
Weekend
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
*नारी*
*नारी*
Dr. Priya Gupta
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
Loading...