Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

शायरी हिंदी

तुम मेरी स्मृतियों की एक नाव बनाना और उसको छोड़ देना सागर के अनंत जल मैं बिना नाविक के
यकीन मानो छोड़ी हुई चीजें डूब जाती हैं
और कभी वापस नहीं आती !

2

मैं जब भी खोलता हूं अपने घर का दरवाजा
तुम्हारी ये यादें मुझसे आकर लिपट जाती है
उफ्फ तुम और तुम्हारी यादें!

3

मैंने देखा है घर की चार कोने का अकेलापन
जो एक घर मैं रहते हुऐ भी
कभी मिल ना सके !

4

दुनिया की सबसे खूबसूरत नीद
किसी बच्चे का

अपनी मां की गोद मैं सो जाना है !

Language: Hindi
1 Like · 61 Views

Books from श्याम सिंह बिष्ट

You may also like:
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
लहू का कतरा कतरा
लहू का कतरा कतरा
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-451💐
💐प्रेम कौतुक-451💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इतनी निराशा किस लिए
इतनी निराशा किस लिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
Surinder blackpen
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना
Dr Archana Gupta
मांँ की सीरत
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं, क्यूँकि खुशियाँ कहाँ मेरे मुक़द्दर को रास आती है।
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं,...
Manisha Manjari
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक सन्देश (वसंत पंचमी विशेष लेख)
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
*राफेल नभ में उड़ाती हैं बेटियाँ (गीतिका)*
*राफेल नभ में उड़ाती हैं बेटियाँ (गीतिका)*
Ravi Prakash
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
shabina. Naaz
हे माधव हे गोविन्द
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
जीवन में खुश कैसे रहें
जीवन में खुश कैसे रहें
Dr fauzia Naseem shad
■ विश्लेषण / परिणामो का...
■ विश्लेषण / परिणामो का...
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बात यही है अब
बात यही है अब
gurudeenverma198
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए...
Taj Mohammad
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
पंचगव्य
पंचगव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“BETRAYAL, CHEATING AND PERSONAL ATTACK ARE NOT THE MISTAKES TO FORGIVE”
“BETRAYAL, CHEATING AND PERSONAL ATTACK ARE NOT THE MISTAKES TO...
DrLakshman Jha Parimal
डॉअरुण कुमार शास्त्री
डॉअरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...