Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

“शायद.”

वर्जना भी चुप सी, रह गयी शायद।
लाज की दीवार, ढह गयी शायद।

आज उठकर, यकबयक क्यूँ चल दिया,
बात मेरी, उसको, चुभ गयी शायद।

भावनाओं के, अपरिमित ज्वार मेँ,
बुद्धि की पतवार, बह गयी शायद।

क्यों मिलन का, फिर से वादा कर गया,
बात इक, दिल मेँ ही, रह गयी शायद।

रोते-रोते, क्यों थी, “आशा” हँस पड़ी,
इक ख़बर अच्छी भी, मिल गयी शायद..!

##———##———##———

Language: Hindi
4 Likes · 3 Comments · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
Dr. Man Mohan Krishna
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#लघु_कविता-
#लघु_कविता-
*प्रणय प्रभात*
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
ना सातवें आसमान तक
ना सातवें आसमान तक
Vivek Mishra
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाल कविता :भीगी बिल्ली
बाल कविता :भीगी बिल्ली
Ravi Prakash
कलम
कलम
Kumud Srivastava
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Mishra " नीर "
नादान पक्षी
नादान पक्षी
Neeraj Agarwal
— मैं सैनिक हूँ —
— मैं सैनिक हूँ —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
Love's Burden
Love's Burden
Vedha Singh
कविता : चंद्रिका
कविता : चंद्रिका
Sushila joshi
तू  मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
तू मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
एक उदासी
एक उदासी
Shweta Soni
जब किसी कार्य को करने में आपकी रुचि के साथ कौशल का भी संगम ह
जब किसी कार्य को करने में आपकी रुचि के साथ कौशल का भी संगम ह
Paras Nath Jha
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
SPK Sachin Lodhi
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
Abhishek Soni
रुत चुनावी आई🙏
रुत चुनावी आई🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
अकेलापन
अकेलापन
Shashi Mahajan
Loading...