Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2022 · 1 min read

*शाबास गिलहरी रानी (बाल कविता)*

शाबास गिलहरी रानी (बाल कविता)
_______________________
सभी जानवर लगे काम में
जंगल स्वच्छ बनाने
भालू चीता बन्दर बिल्ली
झाडू लगे लगाने

एक गिलहरी सोच रही थी
कैसे हाथ बटाऊँ
कैसे जंगल स्वच्छ बनाने
में मैं नाम लिखाऊँ

सुबह-शाम तक बेचारी ने
भारी जोर लगाया
पूँछ हिलाकर उससे कूड़ा
मुट्ठी-भर हट पाया

जंगल का राजा बोला
“शाबास गिलहरी रानी
रामसेतु में भी तुम ही थीं
अब फिर वही कहानी”
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Sometimes he looks me
Sometimes he looks me
Sakshi Tripathi
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या पता...... ?
क्या पता...... ?
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
"" *एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य* "" ( *वसुधैव कुटुंबकम्* )
सुनीलानंद महंत
रिश्ते बचाएं
रिश्ते बचाएं
Sonam Puneet Dubey
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
आत्म  चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
आत्म चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
1B_ वक्त की ही बात है
1B_ वक्त की ही बात है
Kshma Urmila
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
सफलता का सोपान
सफलता का सोपान
Sandeep Pande
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
आधुनिक नारी
आधुनिक नारी
Dr. Kishan tandon kranti
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
*प्रणय प्रभात*
*मनमौजी (बाल कविता)*
*मनमौजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
*
*"ब्रम्हचारिणी माँ"*
Shashi kala vyas
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
राष्ट्र भाषा राज भाषा
राष्ट्र भाषा राज भाषा
Dinesh Gupta
// ॐ जाप //
// ॐ जाप //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
खामोश किताबें
खामोश किताबें
Madhu Shah
रिश्ते फीके हो गए
रिश्ते फीके हो गए
पूर्वार्थ
Loading...